Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मोदी सरकार की बड़ी कार्रवाई, 15 अधिकारियों को इस वजह से किया रिटायर

नरेंद्र मोदी सरकार 2.0 में सरकारी विभागों की सफाई का सिलसिला जारी है। सरकार ने आयकर विभाग में स्वच्छता अभियान चलाते हुए 15 वरिष्ठ अधिकारियों को जनबरन सेवानिवृत्ति (Retirement) दे दी है।

Modi Government Office RetirementModi Government Office Retirement

नरेंद्र मोदी सरकार 2.0 में सरकारी विभागों की सफाई का सिलसिला जारी है। सरकार ने आयकर विभाग में स्वच्छता अभियान चलाते हुए 15 वरिष्ठ अधिकारियों को जनबरन सेवानिवृत्ति (Retirement) दे दी है। सरकार ने यह कार्रवाई भ्रष्टाचार को लेकर की है। बता दें कि मोदी सरकार ने यह कदम 12 वरिष्ठ अफसरों को जबरन रिटायर के बाद उठाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुातबिक डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल एंड एडमिनिस्ट्रेटिव रिफॉर्म्स के नियम 56 के तहत वित्त मंत्रालय ने इन अधिकारियों को सरकार ने समय से पहले ही रिटायरमेंट दे दिया है।

ये नाम हैं शामिल

केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड और कस्टम विभाग के जबरन रिटायर किए गए अधिकारियों का पद और नाम इस प्रकार है- ज्वाइंट कमिश्नर नलिन कुमार, अडिशनल कमिश्नर वीरेंद्र अग्रवाल, प्रिंसिपल कमिश्नर डॉ. अनूप श्रीवास्तव, डिप्टी कमिश्नर अमरेश जैन, असिस्टेंट कमिश्नर मोहम्मद अल्ताफ, कमिश्नर अतुल दीक्ष‍ित, कमिश्नर संसार चंद, कमिश्नर हर्षा, कमिश्नर विनय व्रिज सिंह, अडिशनल कमिश्नर अशोक महिदा, असिस्टेंट कमिश्नर एसएस पाब्ना, असिस्टेंट कमिश्नर विनोद सांगा, डिप्टी कमिश्नर अशोक कुमार असवाल, असिस्टेंट कमिश्नर एसएस बिष्ट और अडिशनल कमिश्नर राजू सेकर हैं।

निर्मला सीतारमण ने 12 वरिष्ठ अफसरों को जबरन रिटायर किया

जानकारी के लिए आपको बता दें कि मोदी सरकार की आज की कार्रवाई से एक हफ्ते पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभालते ही सख्त निर्णय लिया। उन्होंने टैक्स विभाग के 12 वरिष्ठ अधिकारियों जबरन रिटायर कर दिया गया था। नियम 56 के तहत वित्त मंत्रालय के इन अधियाकिरों को समय से पहले रिटायरमेंट दिया गया था।

क्या है नियम 56?

रिपोर्ट्स के मुताबिक नियम 56 का इस्तेमाल करके अधिकारियों को रिटायरमेंट दिया जा सकता है। लेकिन उनकी उम्र 50-55 की हो और 30 साल का कार्यकाल पूरा कर चुके हों। तभी ऐसे अधिकारियों को जबरन रिटायरमेंट दिया जा सकता है। केंद्र सरकार के जरिए अधिकारियों को अनिवार्य रिटायरमेंट दिए जाने का नियम काफी पहले से ही प्रभावी है।

Share it
Top