Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मेहुल चोकसी, विजय माल्या और नीरव मोदी की 9 हजार 371 करोड़ रुपये की संपत्ति सरकारी बैंकों को हुई

धोखाधड़ी के आरोपी भगोड़े कारोबारी विजय माल्या (Vijay Mallya), नीरव मोदी (Nirav Modi) और मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) से नुकसान की भरपाई की प्रक्रिया शुरू कर हो गई है।

मेहुल चोकसी, विजय माल्या और नीरव मोदी की 9 हजार 371 करोड़ रुपये की संपत्ति सरकारी बैंकों को हुई
X

धोखाधड़ी के आरोपी भगोड़े कारोबारी विजय माल्या (Vijay Mallya), नीरव मोदी (Nirav Modi) और मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) से नुकसान की भरपाई की प्रक्रिया शुरू कर हो गई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तीनों आरोपियों की 9,371 करोड़ रुपये की संपत्ति सरकारी बैंकों (Government Bank's) को ट्रांसफर कर दी गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, प्रवर्तन निदेशालय (ED- ईडी) ने कहा कि पीएमएलए (PMLA) के तहत विजय माल्या, नीरव मोदी और मेहुल चोकसी के मामले में न केवल 18,170.02 करोड़ रुपये (बैंकों को हुए कुल नुकसान का 80.45%) की संपत्ति जब्त की, बल्कि 9371.17 करोड़ रुपये की कुर्की और जब्त संपत्ति का एक हिस्सा भी पीएसबी (PSB) और केंद्र सरकार (Central Government) को ट्रांसफर कर दिया गया है।

खबरों से मिली जानकारी के अनुसार प्रवर्तन निदेशालय ने कहा है कि अब बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के मालिक विजय माल्या और पीएनबी बैंक धोखाधड़ी मामलों में बैंकों की 40 फीसदी राशि पीएमएलए के तहत जब्त किए गए शेयरों की बिक्री के जरिए वसूली गई।

बता दें कि विजय माल्या ब्रिटेन से भारत प्रत्यर्पण के लिए वहां अदालती मामलों का सामना कर रहे हैं। इस समय माल्या जमानत पर बाहर हैं। वर्ष 2019 में ब्रिटेन के तत्कालीन गृह सचिव ने माल्या के प्रत्यर्पण को मंजूरी दी थी। जब ईडी और सीबीआई मामले की जांच कर रहे थे तभी विजय माल्या साल 2016 में 2 मार्च को भारत से फरार हो गया था। जिसके बाद बैंकों ने आरोपी के खिलाफ डेब्ट रिकवरी ट्रिब्यूनल्स का रुख किया। जनवरी साल 2019 में विजय माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया गया था।

और पढ़ें
Next Story