Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मौसम की जानकारी: आईएमडी ने गुजरात में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया, किसानों और मछुआरों से कही ये बात

आईएमडी ने गुजरात (Gujarat) के आनंद (Anand), भरूच (Bharuch), नवसारी (Navsari), वलसाड (Valsad), अमरेली और भावनगर (Amreli and Bhavnagar) जिलों में 1 दिसंबर को ऑरेंज अलर्ट और 2 दिसंबर को येलो अलर्ट (Yellow Alert) जारी किया है।

मौसम की जानकारी: आईएमडी ने गुजरात में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया, किसानों और मछुआरों से कही ये बात
X

मौसम की जानकारी: भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department- IMD- आईएमडी) ने भविष्यवाणी की है कि 1 और 2 दिसंबर को गुजरात के कुछ हिस्सों में बहुत भारी बारिश (Heavy Rain) होगी। आईएमडी ने गुजरात (Gujarat) के आनंद (Anand), भरूच (Bharuch), नवसारी (Navsari), वलसाड (Valsad), अमरेली और भावनगर (Amreli and Bhavnagar) जिलों में 1 दिसंबर को ऑरेंज अलर्ट और 2 दिसंबर को येलो अलर्ट (Yellow Alert) जारी किया है।

एक एक्टिव पश्चिमी विक्षोभ के कारण 30 नवंबर यानी आज बारिश शुरू होने की उम्मीद है और आज ही रात से उत्तर पश्चिम और आसपास के मध्य भारत को प्रभावित करने की संभावना है। वहीं मछुआरों को 30 नवंबर से 2 दिसंबर तक उत्तर और दक्षिण गुजरात तट पर नहीं जानें की चेतावनी दी गई है। साथ ही बेमौसम बारिश के कारण किसानों को अपनी फसल और खड़ी फसलों के लिए उचित उपाय करने की सलाह दी गई है। 30 नवंबर को दक्षिण गुजरात के सभी जिलों के साथ-साथ अहमदाबाद, आनंद, खेड़ा, पंचमहल, दाहोद, सुरेंद्रनगर, राजकोट, पोरबंदर, जूनागढ़, अमरेली, भावनगर, गिर सोमनाथ, बोटाद और दीव में गरज के साथ भारी बारिश होने की उम्मीद है। इस दौरान 40 से 60 किमी प्रति घंटे रफ्तार से हवा चल सकती है।

आईएमडी ने कहा कि एक दिसंबर को आनंद, भरूच, नवसारी, वलसाड सूरत, डांग और तापी में, सौराष्ट्र जिलों के अमरेली, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, बोटाद और भावनगर के साथ-साथ पंचमहल, दाहोद, छोटा उदेपुर में बहुत भारी बारिश की संभावना है। वहीं 2 दिसंबर को बनासकांठा, साबरकांठा, अरावली, महिसागर, डांग और तापी जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है। जखाऊ, मांडवी (कच्छ), मुंद्रा, न्यू कांडला, नवलखी, जामनगर, सलाया, ओखा और पोरबंदर सहित उत्तरी गुजरात तट पर मछुआरों नहीं जानें की चेतावनी जारी की गई है। 30 नवंबर से 2 दिसंबर तक उत्तरी गुजरात तट के और उससे सटे पूर्वोत्तर अरब सागर में 40-50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलने की संभावना है।

Next Story