Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

महाराष्ट्र में अनलॉक का प्लान तैयार, मुंबई में हो सकेगी शूटिंग, नए नियमों का रखना होगा ध्यान

मुंबई लेवल थ्री में आती है। शूटिंग की इजाजत सीमित समय, कम लोगों और बायो बबल के साथ ही दी गई है। इसके अलावा मीटिंग में यह भी तय हुआ है कि एपिसोड पूरा करने के लिए रेगुलर शूटिंग की टाइमिंग 12 घंटे की होती है।

महाराष्ट्र में अनलॉक का प्लान तैयार, मुंबई में हो सकेगी शूटिंग, नए नियमों का रखना होगा ध्यान
X

सीएम उद्धव ठाकरे 

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस की दूसरी लहर का असर अब कम हो गया है। इसी कारण महाराष्ट्र में भी सोमवार से अन्य राज्यों की तरह लॉकडाउन में ढील दी जा रही है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे आज शाम स्पेशल मीटिंग की है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जूम मीटिंग के माध्यम शूटिंग शुरू करने को लेकर भी बातचीत की। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक मीटिंग में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने साफ कर दिया है कि फिलहाल रेगुलर शूटिंग शुरू नहीं की जा सकती। फिलहाल कुछ शूटिंग तय समय में बायो बबल के साथ जैसा मुंबई अनलॉक में प्रस्तावित है उसके हिसाब से ही होगी।

बताया गया है कि मुंबई लेवल थ्री में आती है। शूटिंग की इजाजत सीमित समय, कम लोगों और बायो बबल के साथ ही दी गई है। इसके अलावा मीटिंग में यह भी तय हुआ है कि एपिसोड पूरा करने के लिए रेगुलर शूटिंग की टाइमिंग 12 घंटे की होती है। महाराष्ट्र सरकार के द्वारा जारी किए गए नए नियमों से टीवी सीरियल्स के टेलीकास्ट पर असर पड़ता दिखाई देगा। इसलिए अनुरोध किया गया है कि सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक शूटिंग शिफ्ट की इजाजत दी जाए। हालांकि, यह अपील अभी मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पास लंबित हैं। मुख्यमंत्री ने जोर दिया है कि आने वाले 2 महीनों में मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र से जुड़े लोगों का वैक्सीनेशन हो जाना चाहिए यानी कोरोना वैक्सीन की डोज लग जानी चाहिए। अब नई गाइडलाइंस के अनुसार, प्रोड्यूसरों के पास विकल्प है कि वे मुंबई में सीमित समय और बायो बबल के साथ शूटिंग कर सकते हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, देश की आर्थिक राजधानी मुंबई के बाहर गुजरात, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना और राजस्थान में होने वाली शूटिंग अगले सप्ताह से शुरू होने की उम्मीद है। बता दें कि महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे की सरकार की तरफ से अनलॉक की गाइडलाइंस जारी कर दी गई हैं। जिले के अधिकारी अनलॉक, संक्रमण दर और ऑक्सीजन बेड की उपलब्धता के आधार पर लागू करेंगे। जिन जिलों में संक्रमण दर कम होगी, वहां पहले जैसी छूट मिलेगी, लेकिन जहां ज्यादा संक्रमण दर होगी वहां पर लॉकडाउन जैसी पाबंदियां जारी रहेंगी।

Next Story