Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का विवादित बयान, जेएनयू घटना की तुलना 26/11 मुंबई हमले से की

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जेएनयू में हुई हिंसा ने मुझे 26/11 मुंबई आतंकी हमले की याद दिला दी है। यह पता लगाने की जरूरत है कि ये नकाबपोश हमलावर कौन थे।

महा विकास अघाड़ी सरकार के 100 दिन पूरे होने पर अयोध्या आएंगे महाराष्ट्र सीएम उद्धव ठाकरेमहाराष्ट्र मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में रविवार को हुई हिंसा को लेकर विवादित बयान दिया है। सीएम उद्धव ठाकरे ने जेएनयू घटना की तुलना 26/11 मुंबई हमले से की है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जेएनयू में हुई हिंसा ने मुझे 26/11 मुंबई आतंकी हमले की याद दिला दी है। यह पता लगाने की जरूरत है कि ये नकाबपोश हमलावर कौन थे। सीएम ने आगे कहा क देश में छात्रों में डर का माहौल है। हम सभी को एक साथ आने की जरूरत है और छात्र में आत्मविश्वास पैदा करनी की जरूरत है।

महाराष्ट्र में इस तरह के हमलों को बर्दाश्त नहीं करूंगा

हमलावरों को मास्क पहनने की क्या जरूरत थी? वे कायर थे। मैं टीवी पर देख रहा था और इसने मुझे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले की याद दिला दी। मैं महाराष्ट्र में इस तरह के हमलों को बर्दाश्त नहीं करूंगा।

गुंडों को आंतकवादी कहना चाहिए

वहीं महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री और सीएम उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने जेएनयू हिंसा के नकाबपोश बदमाशों को आतंकवादी कहने की वकालत की है। आदित्य ने कहा है कि इन हमलों के कारण भारत की छवि पूरी दुनिया में खराब हो रही है। इन गुंडों को आंतकवादी कहना चाहिए, क्योंकि आतंकवादी भी मुंह छिपाकर ही आते हैं। गुंडों के खिलाफ जल्द कार्रवाई होनी चाहिए, नहीं तो विदेशी छात्र यहां पढ़ने नहीं आएंगे।

30 से अधिक छात्र घायल

बीते रविवार की देर शाम जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) कैंपस में 50 से अधिक नकाबपोश बदमाशों ने छात्रों पर हमला कर दिया। इस हमले में अध्यापकों समेत 30 से अधिक छात्र घायल हो गए। जिसके बाद सभी को इलाज के लिए देर रात दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया।

हालांकि, 22 घायलों को सोमवार को एम्स से छुट्टी दे दी गई है। इस घटना के बाद एबीवीपी और लेफ्ट संगठन के छात्रों ने एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप शुरू कर दिया है। इस बीच कई राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने जेएनयू हिंसा की कड़ी निंदा की है और सरकार से जल्द कार्रवाई की मांग की है।

Next Story
Top