Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Maharashtra: एकनाथ शिंदे सरकार ने दोबारा उद्धव कैबिनेट के इस फैसले को किया लागू, जानें पूरा मामला

बता दें कि उद्धाव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के एक दिन पहले कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता की थी। बैठक के दौरान दोनों शहरों का नाम बदलने का फैसला लिया था।

Maharashtra: एकनाथ शिंदे सरकार ने दोबारा उद्धव कैबिनेट के इस फैसले को किया लागू, जानें पूरा मामला
X

महाराष्ट्र (Maharashtra) में औरंगाबाद और उस्मानाबाद शहर का नाम बदलने के उद्धव सरकार (Uddhav Thackrey) के फैसले को सीएम एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) ने पहले पलट दिया। लेकिन आज फिर से उसे ही लागू कर दिया है। हालांकि इस पर शिवसेना ने आज अपना विरोध जताया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, औरंगाबाद शहर का नाम छत्रपति संभाजीनगर और उस्मानाबाद शहर का नाम धाराशिव करने के प्रस्ताव को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कैबिनेट बैठक में मंजूरी दी है। कैबिनेट बैठक के बाद सीएम एकनाथ शिंदे ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री का फैसला गैरकानूनी था, जिस पर हमने बाद में कानूनी तरीके से मुहर लगा दी है।

बता दें कि उद्धाव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के एक दिन पहले कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता की थी। बैठक के दौरान दोनों शहरों का नाम बदलने का फैसला लिया था। लेकिन शिंदे नीत सरकार ने उद्धव ठाकरे के इस निर्णय को पहले खारिज कर दिया था। लेकिन अब इस नये सिरे से लागू कर दिया है।

शिंदे नीत सरकार ने शनिवार को संभाजी नगर के आगे 'छत्रपति' जोड़ दिया। जबकि उस्मानाबाद का नाम धाराशिव ही रहने दिया है। बता दें कि राज्य में अभी मंत्रीमंडल का विस्तार नहीं हुआ है। मंत्रिमंडल में अभी दो सदस्य शिंदे और फडणवीस ही हैं। मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से जारी बयान में कहा गया है कि उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में हुई पिछले महीने 29 जून हुई मंत्रिमंडल की बैठक के कार्य विवरण को नई सरकार ने आज हुई मंत्रिमंडल की बैठक में मंजूरी दे दी है।

वहीं मंत्रिमंडल ने प्रस्तावित नवी मुंबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नाम किसान नेता दिवंगत डी बी पाटिल के नाम पर रखने को भी मंजूरी दे दी। रिपोर्ट के अनुसार, बयान में यह भी कहा गया है कि मंत्रिमंडल के द्वारा आज स्वीकृत ताजा प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा जाएगा। जिसके बाद दोनों शहरों का नाम संभाग, जिला, तालुका, नगर निगम और परिषद स्तर पर बदला जाएगा।

और पढ़ें
Next Story