logo
Breaking

लोकसभा चुनाव 2019 7वां चरण : आठ राज्यों की 59 लोकसभा सीटों का पूरा गणित

लोकसभा चुनाव के सातवें (Lok Sabha Elections 2019 Phase 7) और अंतिम चरण के लिए शुक्रवार शाम छह बजे प्रचार अभियान थम गया। मतदान 19 मई (19 May) को होगा। इस चरण में उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल सहित आठ राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर मतदान होना है।

लोकसभा चुनाव 2019 7वां चरण : आठ राज्यों की 59 लोकसभा सीटों का पूरा गणित

लोकसभा चुनाव के सातवें (Lok Sabha Elections 2019 Phase 7) और अंतिम चरण के लिए शुक्रवार शाम छह बजे प्रचार अभियान थम गया। मतदान 19 मई (19 May) को होगा। इस चरण में उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल सहित आठ राज्यों की 59 लोकसभा सीटों पर मतदान होना है। चुनाव आयोग ने कोलकाता में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो के दौरान भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच हुई हिंसा के कारण राज्य में मतदान वाली नौ सीटों पर निर्धारित समय से 20 घंटे पहले बृहस्पतिवार रात दस बजे से चुनाव प्रचार पर रोक लगा दी थी। इस बीच, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में पदभार संभालने के बाद पहली बार संवाददाता सम्मेलन करके दावा किया कि भाजपा पिछली बार के मुकाबले कहीं ज्यादा बड़े जनादेश के साथ सत्ता में वापसी करेगी। इसी के साथ उन्होंने अपना चुनाव प्रचार भी खत्म किया।

दूसरी ओर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी संवाददाता सम्मेलन करके संकेत दिए कि अगली सरकार के गठन के लिए विपक्षी पार्टियां एकजुट होंगी। लोकसभा चुनावों के पूरे प्रचार अभियान पर गौर करें तो राजनीतिक पार्टियों के नेताओं ने एक-दूसरे पर काफी तीखे हमले किए, अभद्र भाषा का प्रयोग किया और आपत्तिजनक टिप्पणियां की। इनके कारण कई बार चुनाव आयोग को दखल देना पड़ा।

निर्वाचन आयोग ने सातवें चरण के चुनाव के लिए शुक्रवार को शाम छह बजे प्रचार थमने से पहले इस चरण में किस्मत आजमा रहे उम्मीदवारों की अंतिम सूची जारी कर दी। पिछले छह चरण के चुनाव में 543 लोकसभा सीटों में से अब तक 484 सीटों पर मतदान हो चुका है। उल्लेखनीय है कि सातवें चरण में पंजाब और उत्तर प्रदेश की 13-13, बिहार और मध्य प्रदेश की आठ-आठ, पश्चिम बंगाल की नौ, हिमाचल प्रदेश की चार, झारखंड की तीन और चंडीगढ़ सीट पर मतदान होगा।

अंतिम चरण के चुनाव में कुल 918 उम्मीदवार किस्मत आजमा रहे हैं। लगभग 10 करोड़ मतदाता 19 मई को इनके भाग्य का फैसला करने के लिए अपने मताधिकार का इस्तेमाल कर सकेंगे। मोदी ने अमित शाह के साथ किए गए संवाददाता सम्मेलन में कहा कि चुनाव शानदार रहा, एक सकारात्मक भाव से चुनाव हुआ।'' उन्होंने चुनाव प्रचार अभियान से जुड़े अपने अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि पूर्ण बहुमत वाली सरकार पांच साल पूरे कर दोबारा जीतकर आये.. यह शायद देश में बहुत लंबे अर्से के बाद हो रहा है। ये अपने आप में बड़ी बात है।

मोदी ने कहा कि जनता ने नई सरकार बनाना तय कर लिया है। हमने संकल्प पत्र में देश को आगे ले जाने के लिए कई बातें कही हैं। जितना जल्दी होगा, उतना जल्दी नई सरकार अपना कार्यभार ग्रहण कर लेगी और एक के बाद एक निर्णय लेगी। फिर से सरकार बनने को लेकर आत्मविश्वास दर्शाते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, चुनाव अभियान के दौरान उन्होंने देशवासियों से कहा था कि पांच साल मुझे देश ने जो आशीर्वाद दिया उसके लिए मैं धन्यवाद देने आया हूं।

संवाददाताओं से उन्होंने कहा कि यहां भी मैं आपको धन्यवाद देने आया हूं। बहरहाल, पार्टी के अनुशासन का हवाला देते हुए मोदी ने पत्रकारों से कोई सवाल नहीं लिया। पत्रकारों के सवाल के जवाब अमित शाह ने दिए। प्रधानमंत्री के साथ मौजूद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने संवाददाताओं से कहा कि हमारी सरकार के पांच साल समाप्त होने को आए हैं और "नरेन्द्र मोदी प्रयोग" को जनता ने स्वीकारा है। मैं विश्वास से कह रहा हूं कि विगत चुनाव से भी ज्यादा बहुमत से नरेन्द्र मोदी सरकार फिर से बनने जा रही है। उन्होंने जोर देकर कहा कि चुनाव के बाद "भाजपा 300 से अधिक सीटें प्राप्त करेगी।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस

दूसरी ओर, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने अलग संवाददाता सम्मेलन आयोजित करके कहा कि सपा, बसपा और तेदेपा भाजपा का समर्थन नहीं करेंगी। उन्होंने संकेत दिए कि विपक्षी पार्टियां अगली सरकार बनाने के लिए एक होंगी। राहुल ने कहा कि उनकी पार्टी की रणनीति थी कि व्यवस्थित तरीके से हर दरवाजे को बंद कर दिया जाए ताकि नरेंद्र मोदी को भागने से रोका जा सके।

उन्होंने कहा कि हमने (मोदी के लिए) 90 फीसदी रास्ते बंद कर दिए, उन्होंने विरोधियों को गाली देकर अपने लिए खुद ही 10 फीसदी रास्ते बंद कर लिए। राहुल ने चुनाव खत्म होने से चंद दिनों पहले अपना पहला संवाददाता सम्मेलन करने को लेकर प्रधानमंत्री मोदी का मजाक भी उड़ाया। गौरतलब है कि मोदी-शाह और राहुल गांधी के संवाददाता सम्मेलनों का समय लगभग एकसमान था। राहुल ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री ने राफेल मुद्दे पर बहस की मेरी चुनौती क्यों नहीं स्वीकार की?

त्रिशंकु लोकसभा की स्थिति में राजग को सत्ता से बाहर रखने के लिए क्षेत्रीय पार्टियां और कांग्रेस प्रयासरत हैं और उन्होंने इस बाबत अनौपचारिक बातचीत शुरू भी कर दी है। चुनाव प्रचार के अंतिम दिन बसपा प्रमुख मायावती ने बसपा-सपा-रालोद के गठबंधन को विचारों का मेल'' करार दिया और कहा कि वह जब तक उत्तर प्रदेश से योगी आदित्यनाथ और केंद्र से नरेंद्र मोदी सरकार को हटा नहीं देता, वह चुप नहीं बैठेगा।

बहरहाल, सातवें चरण के चुनाव में नक्सल प्रभावित बिहार की सासाराम और काराकट लोकसभा सीट के चार-चार विधानसभा क्षेत्रों में तथा उत्तर प्रदेश की राबर्टसगंज सीट के तीन विधानसभा क्षेत्रों में मतदान की अवधि सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक निर्धारित की गयी है। झारखंड के तीन लोकसभा क्षेत्रों राजमहल, दुमका और गोड्डा के सभी विधानसभा क्षेत्रों में सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा।

इस चरण में शामिल राज्यों की शेष सभी सीटों पर सुबह सात बजे से शाम छह बजे तक मतदान होगा। निर्वाचन नियमों के मुताबिक, मतदान खत्म होने से 48 घंटे पहले प्रचार अभियान बंद हो जाता है। चुनाव आचार संहिता के प्रावधानों के मुताबिक, मतदान से पहले 48 घंटे की 'प्रचार वर्जित अवधि' (साइलेंट पीरियड) में उम्मीदवार किसी भी माध्यम से प्रचार अभियान नहीं कर सकते।

आयोग ने साइलेंट पीरियड में प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से प्रचार को रोकने के लिए निगरानी के इंतजाम किए हैं। आयोग ने आचार संहिता के प्रावधानों का हवाला देकर सभी दलों के नेताओं और उम्मीदवारों से इस अवधि में प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में साक्षात्कार देने से भी रोका है। आयोग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि साइलेंट पीरियड में प्रचार पर रोक सुनिश्चित करने के लिए आयोग की शिकायत निवारण प्रणाली को सुचारू रखा गया है।

इसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति इसके उल्लंघन की शिकायत आयोग के मोबाइल ऐप, ऑनलाइन और पत्राचार के माध्यम से कर सकेंगे। सातवें चरण के चुनाव में किस्मत आजमा रहे प्रमुख उम्मीदवारों में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी शामिल हैं। मोदी वाराणसी से भाजपा उम्मीदवार हैं। उनका मुकाबला सपा की शालिनी यादव और कांग्रेस के अजय राय से है। इनके अलावा, भाजपा खेमे से केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद का मुकाबला पटना साहिब से कांग्रेस के शत्रुघ्न सिन्हा से है।

केन्द्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी पंजाब की अमृतसर, मनोज सिन्हा उत्तर प्रदेश की गाजीपुर और अनुप्रिया पटेल बतौर अपना दल उम्मीदवार मिर्जापुर सीट से किस्मत आजमा रही हैं। इनके अलावा, प्रमुख उम्मीदवारों में फिल्म अभिनेता सनी देओल गुरदासपुर से, भोजपुरी गायक रवि किशन गोरखपुर से और किरण खेर चंडीगढ़ लोकसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार हैं।

झारखंड मुक्ति मोर्चा के अध्यक्ष शिबू सोरेन दुमका से चुनाव मैदान में हैं। पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार बिहार के सासाराम से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं। अंतिम चरण के मतदान वाली सीटों में उत्तर प्रदेश की महाराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, बलिया, गाजीपुर, चन्दौली, वाराणसी, मिर्जापुर और रॉबर्ट्सगंज सीटें तथा मध्य प्रदेश की देवास, उज्जैन, इंदौर, मंदसौर, खरगौन, खंडवा, रतलाम और धार सीट शामिल हैं।

इन सभी सीटों पर 2014 के चुनाव में भाजपा जीती थी। बाद में रतलाम सीट उपचुनाव में कांग्रेस ने भाजपा से झटक ली। अंतिम चरण में बिहार की नालंदा, पटना साहिब, पाटलिपुत्र, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकट और जहानाबाद सीटों पर मतदान होगा। पिछली बार इनमें से सात सीट भाजपा और एक सीट आरएलएसपी ने जीती थी। इस बार पाटलिपुत्र सीट से केन्द्रीय मंत्री रामकृपाल यादव का मुकाबला राजद उम्मीदवार मीसा भारती से है।

इसके अलावा पंजाब की गुरदासपुर, अमृतसर, जालंधर, होशियारपुर, आनंदपुर साहिब, लुधियाना, फतहगढ़ साहिब, फरीदकोट, फिरोजपुर, बठिंडा, संगरुर, पटियाला और खडूर साहिब सीटों पर रविवार को मतदान होगा। पिछले चुनाव में आप और अकाली दल ने चार-चार, कांग्रेस ने तीन और भाजपा ने दो सीटें जीती थी। वहीं, पश्चिम बंगाल की मतदान वाली सभी नौ सीटें (दमदम, बारासात, बशीरहाट, जयनगर, मथुरापुर, डायमंड हार्बर, जाधवपुर, कोलकाता दक्षिण और कोलकाता उत्तर) पिछले चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने जीती थीं।

Share it
Top