Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Startup India: अब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा 'नेशनल स्टार्टअप दिवस', पीएम बोले- इससे लाखों लोगों को मिला है रोजगार

देश में स्टार्टअप (Startup) इकोसिस्टम को और ज्यादा मजबूत करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) 150 से ज्यादा स्टार्टअप्स से बातचीत की और साथ ही घोषणा की है कि अब से हर साल 16 जनवरी को नेशनल स्टार्टअप दिवस' मनाया जाएगा।

Startup India:  अब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा नेशनल स्टार्टअप दिवस, पीएम बोले-  इससे लाखों लोगों को मिला है रोजगार
X

देश में स्टार्टअप (Startup) इकोसिस्टम को और ज्यादा मजबूत करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी (PM Modi) 150 से ज्यादा स्टार्टअप्स से बातचीत की और साथ ही घोषणा की है कि अब से हर साल 16 जनवरी को नेशनल स्टार्टअप दिवस' मनाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि अब हर साल 16 जनवरी को राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस मनाया जाएगा स्टार्टअप जगत के कई दिग्गजों के साथ चर्चा करते हुए पीएम ने उन्हें बधाई भी दी है।

पीएम मोदी ने वीडियो कॉफ्रेंसिंग के जरिए स्टार्टअप उद्यमियों से बातचीत की। कृषि, स्वास्थ्य, उद्यम प्रणाली, अंतरिक्ष, उद्योग, सुरक्षा, फिनटेक, पर्यावरण आदि क्षेत्रों में बेहतरीन काम करने वाले स्टार्टअप इस कार्यक्रम का हिस्सा बने। पीएम ने संवाद के दौरान कहा कि मैं युवाओं से आह्वान करता हूं कि वे अपने सपनों को स्थानीय नहीं बल्कि वैश्विक बनाएं। स्टार्ट-अप्स का कल्चर देश के दूर-दराज तक पहुंचे इसके लिए 16 जनवरी को अब 'नेशनल स्टार्ट-अप डे के रूप में मनाने का फैसला लिया गया है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारा प्रयास देश में बचपन से ही छात्रों में इनोवेशन के प्रति आकर्षण पैदा करने, इनोवेशन को इंस्टिट्यूशन्लाइज करने का है। 9,000 से ज्यादा अटल टिंकरिंग लैब्स, आज बच्चों को स्कूलों में innovate करने, नए Ideas पर काम करने का मौका दे रही हैं। सरकार के अलग-अलग विभाग, मंत्रालय, नौजवानों और स्टार्ट-अप्स के साथ संपर्क में रहते हैं। उनके आइडियाज को प्रोत्साहित करते हैं। सरकार की प्राथमिकता ज्यादा से ज्यादा युवाओ को इनोवेशन का मौका देने की है।

पीएम मोदी ने कहा कि जिस स्पीड और स्केल में आज भारत का युवा स्टार्ट-अप बना रहा है, वो वैश्विक महामारी के इस दौर में भारतीय की प्रबल इच्छा शक्ति और संकल्प शक्ति का प्रमाण है। पहले बेहतरीन से बेहतरीन समय में इक्का-दुक्का कंपनियां ही बड़ी बन पाती थी, लेकिन बीते साल तो 42 यूनिकॉर्न देश में बने हैं। हजारों करोड़ रुपये की ये कंपनियां आत्मनिर्भर होते, आत्मविश्वासी भारत की पहचान हैं। आज भारत तेज़ी से यूनिकॉर्न की सेंचुरी लगाने की तरफ बढ़ रहा है। मैं मानता हूं, भारत के स्टार्ट-अप्स का स्वर्णिम काल तो अब शुरु हो रहा है।


आत्मनिर्भर भारत के तहत आगे बढ़ रहा देश

पीएमओ ने जानकारी देते हुए कहा था कि पीएम मोदी उस क्षमता में दृढ़ता से विश्वास करते हैं कि स्टार्टअप देश के विकास और विकास में योगदान करते हैं। पिछले कुछ सालों की सफलता को याद करते हुए पीएमओ ने कहा था कि इसका देश में स्टार्टअप्स पर जबरदस्त प्रभाव पड़ा है और देश में यूनिकॉर्न की आश्चर्यजनक वृद्धि हुई है। भारत के स्टार्टअप ने साल 2021 में 42 अरब डॉलर की कमाई की। जो एक साल पहले 11.5 अरब डॉलर थी। देश के विकास में इन स्टार्टअप के योगदान और अन्य लोगों को प्रेरित कर आगे बढ़ने की कला से प्रभावित हुए।

Next Story