Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

PM Modi Speech : राष्ट्र को संबोधित करते हुए पीएम मोदी बोले, 100 करोड़ वैक्सीन डोज केवल एक आंकड़ा ही नहीं, ये नए भारत की तस्वीर है

पीएम ने कहा कि देश ने कर्तव्य का पालन किया तो बड़ी सफलता है। ये नए भारत की तस्वीर है। आज दुनियाभर में भारत के काम की तारीफ हो रही है और महामारी के बीच भारत पर सवाल उठे।

PM Modi Speech : राष्ट्र को संबोधित करते हुए पीएम मोदी बोले, 100 करोड़ वैक्सीन डोज केवल एक आंकड़ा ही नहीं, ये नए भारत की तस्वीर है
X

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने वैक्सीनेशन अभियान के तहत 100 करोड़ वैक्सीन डोज (100 Crore Vaccine) लगने का रिकॉर्ड ब्रेक होने पर आज सुबह 10 बजे राष्ट्र को संबोधित किया। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि कल 100 करोड़ वैक्सीन डोज का लक्ष्य हासिल किया। पीएम ने कहा कि देश ने कर्तव्य का पालन किया तो बड़ी सफलता है। ये नए भारत की तस्वीर है। आज दुनियाभर में भारत के काम की तारीफ हो रही है और महामारी के बीच भारत पर सवाल उठे।

पीएम मोदी ने अपने भाषण में कहा कि बीती 21 अक्टूबर को भारत ने 100 करोड़ (1 बिलियन) कोविड-19 टीकाकरण के लक्ष्य को पूरा किया। यह उपलब्धि देश के प्रत्येक व्यक्ति की है। मैं हर नागरिक को इस उपलब्धि के लिए बधाई देता हूं। पीएम मोदी ने राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि 100 करोड़ टीकाकरण सिर्फ एक संख्या नहीं है, बल्कि देश के इतिहास में एक नए अध्याय की शुरुआत है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने 100 करोड़ टीकाकरण पर कहा कि यह इतिहास का एक नया अध्याय है, एक वसीयतनामा है कि भारत एक कठिन लक्ष्य को सफलतापूर्वक प्राप्त कर सकता है। यह दर्शाता है कि देश अपने लक्ष्यों की पूर्ति के लिए कड़ी मेहनत करता है। भारत पर 100 करोड़ टीकाकरण का आंकड़ा हासिल करने पर पीएम मोदी हमारे टीकाकरण कार्यक्रम को लेकर आशंकाएं थीं।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे देश ने एक तरफ कर्तव्य का पालन किया, तो दूसरी तरफ उसे सफलता भी मिली। कल भारत ने 100 करोड़ वैक्सीन डोज का कठिन लेकिन असाधारण लक्ष्य प्राप्त किया है। 100 करोड़ वैक्सीन डोज केवल एक आंकड़ा ही नहीं, ये देश के सामर्थ्य का प्रतिबिंब भी है। इतिहास के नए अध्याय की रचना है। ये उस नए भारत की तस्वीर है, जो कठिन लक्ष्य निर्धारित कर, उन्हें हासिल करना जानता है। आज कई लोग भारत के वैक्सीनेशन प्रोग्राम की तुलना दुनिया के दूसरे देशों से कर रहे हैं। भारत ने जिस तेजी से 100 करोड़ का, 1 बिलियन का आंकड़ा पार किया, उसकी सराहना भी हो रही है।

लेकिन, इस विश्लेषण में एक बात अक्सर छूट जाती है कि हमने ये शुरुआत कहां से की। दुनिया के दूसरे बड़े देशों के लिए वैक्सीन पर रिसर्च करना, वैक्सीन खोजना, इसमें दशकों से उनकी एक्सपर्ट थी। भारत, अधिकतर इन देशों की बनाई वैक्सीन्स पर ही निर्भर रहता था। जब 100 साल की सबसे बड़ी महामारी आई, तो भारत पर सवाल उठने लगे। क्या भारत इस वैश्विक महामारी से लड़ पाएगा? भारत दूसरे देशों से इतनी वैक्सीन खरीदने का पैसा कहां से लाएगा? भारत के लोगों को वैक्सीन मिलेगी भी या नहीं? क्या भारत इतने लोगों को टीका लगा पाएगा कि महामारी को फैलने से रोक सके? भांति-भांति के सवाल थे, लेकिन आज ये 100 करोड़ वैक्सीन डोज, हर सवाल का जवाब दे रही है। भाषण से पहले पीएमओ ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को सुबह 10 बजे राष्ट्र को संबोधित करेंगे।

Next Story