Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Lal Bahadur Shastri : बीत गए 53 साल, नहीं खुल पाया लाल बहादुर शास्त्री की मौत का राज

Lal Bahadur Shastri : पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत के 53 साल बीत गए। लेकिन अब तक उनकी मौत की गुत्थी नहीं सुलझ पाई है। 11 जनवरी शनिवार को उनकी 116वीं पुण्यतिथि (Death Anniversary) मनाई जाएगी।

Lal Bahadur Shastri: बीत गए 53 साल, नहीं खुल पाया लाल बहादुर शास्त्री की मौत का राजलाल बहादुर शास्त्री

Lal Bahadur Shastri : पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की मौत के 53 साल बीत गए, लेकिन अब तक उनकी मौत की गुत्थी नहीं सुलझ पाई है। 11 जनवरी शनिवार को उनकी 116वीं पुण्यतिथि (Death Anniversary) मनाई जाएगी। उनका जन्म 2 अक्टूबर को हुआ था और 11 जनवरी को ताशकंद समझौते के बाद उनके और पाकिस्तान के तत्कालीन राष्ट्रपति अयूब खान के बीच समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। जिस दौरान उनकी मौत हो गई।

जहां कुछ लोगों का मानना है कि बीमारी के कारण से उनकी मौत हो गई थी, वहीं कुछ का कहना है कि हत्या की साजिश की गई थी। जिससे इन सभी तुक के बीच अब तक मौत या हत्या की साजिश के बीच अटकी हुई है। वहीं उनके बेटे पूर्व सांसद सुनील शास्त्री का कहना है कि लाल बहादुर शास्त्री की मौत दिल का दौरा पड़ने से नहीं हुई थी, बल्कि ये हत्या की साजिश की गई थी। अगर उस वक्त पोस्टमार्टम कराया जाता तो सच्चाई सबके सामने बाहर आ जाती।

उन्होंने कहा कि भारत-पाक युद्ध (1965) की समाप्ति के बाद जब पिता जी ताशकंद समझौते पर हस्ताक्षर करने गए तो पूरी तरह स्वस्थ थे, फिर 11 जनवरी 1966 की रात अचानक उनकी मृत्यु कैसे हो गई? मैं तो इसमें साजिश मानता हूं। मौत के बाद शव का पोस्टमार्टम भी नहीं कराया जाना, साजिश की ओर ही इशारा करता है। उनका पार्थिव शरीर जब देश लाया गया तो काफी लोगों ने देखा था कि चेहरा, सीना और पीठ से लेकर कई अंगों पर नीले और उजले निशान थे। इसलिए ये सवाल तो हमेशा बना रहेगा।

मौत का रहस्य तो नहीं खुल पाया, लेकिन उन्हें मरणोपरान्त भारत रत्न से सम्मानित जरूर किया गया। जहां इस उपाधि से देश में कई लोगों के चहरे पर खुशी के जगह बस एक ही सवाल था आखिर वाकई उनकी मौत हुई थी या हत्या की साजिश थी। यह सवाल अब तक लोगों के मन में जगा है कि अगर उनकी मौत सच में बीमारी से ही हुई थी तो फिर पोस्टमार्टम क्यों नहीं करवाया गया।

आपको बता दें कि 1965 में भारत ने पाकिस्तान को युद्ध में मात दी थी। इसके बाद 11 जनवरी 1966 में भारत और पाकिस्तान के बीच एक समझौता हुआ था, जिसे ताशकंद समझौता कहा जाता है। इसी के बाद ही लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु हो गई थी।

Priyanka Kumari

Priyanka Kumari

Jr. Sub Editor


Next Story
Top