Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर यूपी डीजीपी के बाद गुजरात ATS डीआईजी का बयान, बोले- तीनों आरोपियों ने कबूला जुर्म

हिंदू महासभा (Hindu Mahasabha) के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) को लेकर उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह (UP DGP Om Prakash Singh) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बड़ा खुलासा किया है। यूपी डीजीपी ने बताया कि इस हत्याकांड के तार गुजरात से जुड़े हैं।

कमलेश तिवारी हत्याकांड को लेकर यूपी डीजीपी का बड़ा बयान,  24 घंटे में सुलझा मामला, रशीद पठान है मास्टरमाइंडयूपी डीजीपी ओम प्रकाश सिंह (फाइल फोटो)

हिंदू महासभा (Hindu Mahasbha) के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड (Kamlesh Tiwari Murder Case) को लेकर उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओम प्रकाश सिंह (UP DGP Om Prakash Singh) ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बड़ा खुलासा किया है। यूपी डीजीपी ने बताया कि इस हत्याकांड के तार गुजरात से जुड़े हैं।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान डीजीपी ने कहा कि 2015 में कमलेश के विवादित बयान को लेकर हत्या की साजिश रची गई। लेकिन टीम ने 24 घंटे के अंदर आरोपियों को गिरासत में ले लिया और पूछताछ की जा रही है। इस मामले में एक मौलाना को भी गिरफ्तार किया गया है।

एएनआई के मुताबिक, यूपी डीजीपी ने कहा कि एफआईआर में दो लोगों के नामों को साजिशकर्ता के रूप में जोड़ा गया था। इसमें मौलाना अनवारुल हक और मुफ्ती नईम काजमी। इन 2 को भी हिरासत में लिया गया है और पूछताछ की जा रही है।

हम गुजरात, बिजनौर, लखनऊ और अन्य स्थानों पर छापेमारी कर रहे हैं। हत्या के मामले में दो और संदिग्धों को हिरासत में लिया था, जिन्हें बाद में छोड़ दिया। हत्याकांड का आतंकी घटना या आतंकवादियों से कोई संपर्क नहीं है।

डीजीपी ने कहा कि हम गुजरात एटीएस के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और लगातार संपर्क में हैं। फिलहाल, हर पहलू की जांच की जा रही है। अभी तक हत्या के पीछे कोई आतंवादी साजिश का सुराग नहीं मिला है।

डीजीपी ने कहा कि मौकाए वारदात से मिला मिठाई का डिब्बा हमारे लिए सुराग बना। एक खास पोशाक पहनकर हत्यारे आए और घटना को अंजाम दिया गया। रशीद पठान ने इस पूरी योजना को बनाया था।

गुजरात एटीएस डीआईजी हिमांशु शुक्ला ने कहा कि सभी तीनों आरोपियों ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। इन तीनों ने ही हत्या की साजिश को अंजाम दिया था।

Next Story
Share it
Top