Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Jaswant Singh death: पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का 82 साल की उम्र में कार्डियक अरेस्ट से निधन, पीएम मोदी से लेकर इन नेताओं ने जताया दुख

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के करीबी रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का आज सुबह दिल्ली में 82 साल की उम्र में निधन हो गया।

Jaswant Singh death: पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का 82 साल की उम्र में कार्डियक अरेस्ट से निधन, पीएम मोदी से लेकर इन नेताओं ने जताया दुख
X
पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के करीबी रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री जसवंत सिंह का आज सुबह दिल्ली में 82 साल की उम्र में निधन हो गया। उन्होंने अटल जी की सरकार में कई महत्वपूर्ण पदों पर काम किया। जसवंत सिंह को दिल्ली के सेना अनुसंधान और रेफरल अस्पताल में इलाज चल रहा था। इलाज के दौरान लंबी बीमारी के चलते निधन हो गया।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आज सुबह 7 बजे आस पास दिल्ली के आर्मी अस्पताल में इलाज के दौरान उनका निधन हो गया। उउन्हें 25 जून को अस्पताल भर्ती कराया गया और उनका सेप्सिस का इलाज किया गया। अस्पताल के एक बयान में कहा गया है कि मल्टीरैगन डिसफंक्शन सिंड्रोम और गंभीर हेड इंजरी ओल्ड (ऑप्ट्ड) के प्रभाव से आज सुबह कार्डियक अरेस्ट से निधन हो गया।

जसवंत सिंह के निधन पर पीएम नरेंद्र मोदी, दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी समेत कई नेताओं ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि अर्पित की है। पीएम मोदी और अन्य भाजपा नेताओं ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होंने भारत की ईमानदारी से सेवा की और उन्हें राजनीति और समाज के मामलों में अपने अद्वितीय दृष्टिकोण के लिए याद किया जाएगा।

जसवंत सिंह के निधन पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्वीट कर लिखा कि जसवंत सिंह के निधन से आहत हूं। उनके चाहने वालों और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदना है। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे.. ओम शांति वहीं दूसरी तरफ दिल्ली सीएम केजरीवाल ने लिखा कि जसवंत सिंह जी के निधन के बारे में सुनकर दुख हुआ। उन्होंने जीवन भर देश के लिए काम किया, चाहे सरकार के अंदर हो या बाहर। भगवान उनकी आत्मा को शांति दे...

जसवंत सिंह राजस्थान के रहने वाले थे। उन्होंने भारत के विदेश मंत्री, रक्षा मंत्री और वित्त मंत्री के रूप में कार्य किया था। वो साल 1950 और 60 के दशक में भारतीय सेना में एक अधिकारी के रूप में काम करते रहे और इसके बाद उन्होंने राजनीति में अपना करियर बनाने के लिए इस्तीफा दे दिया। अगस्त 2014 में अपने घर पर गिरने के बाद से ही वो बीमार चल रहे थे। उन्हें सेना अनुसंधान और रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

Next Story