logo
Breaking

ISRO फिर रचेगा इतिहास, कल लॉन्च होगी रीसैट-2बी सैटेलाइट, दुश्मनों और आपदाओं से करेगा मदद

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी ISRO एक बार फिर इतिहास रचने की तैयारी कर रहा है। बुधवार 22 मई 2019 को सुबह 5 बजकर 27 मिनट पर रिसेट-2बी उपग्रह को पीएसएलबी-सी46 द्वारा लॉन्च किया जाएगा। हर बार की तरह इस बार भी सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र श्रीहरिकोटा से ही लॉन्च किया जाएगा।

ISRO फिर रचेगा इतिहास, कल लॉन्च होगी रीसैट-2बी सैटेलाइट, दुश्मनों और आपदाओं से करेगा मदद

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन यानी ISRO एक बार फिर इतिहास रचने की तैयारी कर रहा है। बुधवार 22 मई 2019 को सुबह 5 बजकर 27 मिनट पर रिसेट-2बी उपग्रह को पीएसएलबी-सी46 द्वारा लॉन्च किया जाएगा। हर बार की तरह इस बार भी सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र श्रीहरिकोटा से ही लॉन्च किया जाएगा।

लेकिन लॉन्चिंग से पहले इसरो के चेयरमैन के सिवन ने तिरुपति के तिरुमला मंदिर जाकर पूजा अर्चना की। इसरो की हमेशा से परंपरा रही है वो तिरुमला मंदिर जाकर भगवान वेंकटेश्वर की पूजा कर आशीर्वाद लेते हैं। उसके बाद ही सैटेलाइन को लॉन्च किया जाता है।

जानकारी के लिए बता दें कि ये रिसेट सैटेलाइट सीरीज का चौथी सैटेलाइट होगी। इस सैटेलाइट से आपदा, सुरक्षाबल और सीमा पर नजर रखी जा सकेगी। रिसेट हमेशा काम करती रहे इसको लेकर 300 किलोग्राम के रिसेट-2बी सैटेलाइट के साथ सिंथेटिक अपर्चर रडार (सार) इमेजर को भी अंतरिक्ष में भेजा जाएगा। सीधे तौर पर कह सकते हैं कि ये इमेजिज लेने में सक्षम होगा जिससे हर एक गतिविधि पर नजर रखी जा सकेगी।

आपदा प्रबंधन में करेगा मदद

रीसैट सैटेलाइट से प्राकृतिक आपदाओं में मदद मिलेगी। इसके जरिए अंतरिक्ष से जमीन तक की 3 फीट की ऊंचाई से बहुत अच्छी तस्वीरें ली जा सकती हैं जो पहले मुमकीन नहीं था। इस तकनीक को 26/11 हमले के बाद लाया गया। इतना ही नहीं रात हो, बारिश हो, मौसम खराब हो उस वक्त भी आप अपने ओबजेक्ट की सही तस्वीरें ले सकते हैं।

सुरक्षाबलों को मिलेगी मदद

रिसैट के लॉन्च होने के बाद जहां आपदा से राहत मिलेगी तो वहीं देश की सीमाओं पर भी इस सैटेलाइन से नजर रखी जाएगी। सैटेलाइट के जरिए सीमाओं की निगरानी और घुसपैठ रोकथाम में मदद मिलेगी। इतना ही नहीं आने वाले दिनों में इसरो रिसैट-2बी के अलावा इसकी जैसी 6 सैटेलाइट को भी लॉन्च करेगा। जिसके नाम इस प्रकार है- रीसैट-2बीआर1, रीसैट-2बीआर2, रीसैट-1ए, रीसैट-1बी, रीसैट2ए

पाकिस्तान पर आसमान से नजर रखेगी ये सैटेलाइट

इसरो को उम्मीद है कि आने वाले 2020 तक भारत अपने सीमाओं को सुरक्षित करने में सक्ष्म होगा। अगले 10 महीनों में इसरो 8 सैटेलाइट लॉन्च करेगा। इसमें से 5 सैटेलाइन भारत और पृथ्वी की निगरानी रखेगी। इससे देश की सीमाओं पर पेनी नजर रखी जाएगी। इसमें पाकिस्तान और उसके आतंकी कैंप शामिल हैं। बाकी 3 सैटेलाइन इस्तेमाल संचार के माध्यम के लिए होगा। जिससे सेना और देश दोनों की ताकत बढ़ेगी।

Loading...
Share it
Top