Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ISRO ने संचार उपग्रह GSAT-30 को किया लॉन्च, 15 साल तक करेगा काम

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने एरियनस्पेस द्वारा इसरो के 'जीसैट -30' और यूटेलसैट कोनकट उपग्रहों को लॉन्च कर दिया है।

ISRO ने संचार उपग्रह GSAT-30 को किया लॉन्च, 15 साल तक करेंगा कामइसरो जीसैट -30

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने 'जीसैट -30' और यूटेलसैट कोनकट उपग्रहों को एरियन 5 से लॉन्च कर दिया है। आज सुबह 17 जनवरी 2020 को 2 बजकर 35 मिनट पर आईएसटी से फ्रेंच गुयाना से इसे भेजा गया।

संचार उपग्रह का प्रक्षेपण इसरो का इस साल का पहला उपग्रह प्रक्षेपण है। यह उपग्रह एशिया में बड़े दर्शकों के लिए भारतीय डीटीएच (डायरेक्ट-टू-होम) के विस्तार में मदद करेगा, जिसका अर्थ है कि विदेशों में बसे भारतीय भारतीय डीटीएच सेवाओं का आनंद ले सकते हैं। यह उपग्रह भारत का इस दशक का पहला प्रक्षेपण होगा।

इसरो ने बताया कि जीसैट-30 इनसैट-4ए अंतरिक्ष यान सेवाओं के लिए काम करेगा। जिसमें सीमित कवरेज क्षेत्र था। INSAT-4A के कू-बैंड और सी-बैंड का उपयोग कैसे किया जाता है, जैसे डीटीएच ऑपरेटर जैसे TataSky, Airtel TV, Dish TV और अन्य भारत में ग्राहकों को सेवाएं प्रदान करते हैं।

जीसैट-30 को लेकर इसरो ने बताया कि कू-बैंड और सी-बैंड को कवर करने वाले खाड़ी देशों मं बड़ी संख्या में एशियाई देशों और ऑस्ट्रेलिया में भारतीय लोगों को ये सुविधाएं देने के लिए किया जा रहा है।

भू-स्टेशनरी उपग्रह जो भूमध्य रेखा से 35,000 किमी की ऊंचाई पर पृथ्वी की परिक्रमा करते हैं। टेलीविजन चैनलों का सैटेलाइट ट्रांसमिशन आमतौर पर दो प्रकार के बैंड का उपयोग करके किया जाता है। सी बैंड जिसकी आवृत्तियों 4.0 से 8.0 गीगाहर्ट्ज़ और कू बैंड के साथ आवृत्तियों को 12 से 18 गीगाहर्ट्ज़ के बीच होती है।

3,357 किग्रा जीसैट-30 को 15 साल का एक मिशन जीवन कहा जाता है। जिसमें यह डीटीएच, टेलीविजन अपलिंक और वीसैट सेवाओं के लिए एक परिचालन संचार उपग्रह होगा। उपग्रह INSAT-4A को 2005 में लॉन्च किया गया था और पिछले 12 वर्षों के लिए डिजाइन किया गया था।

हालांकि, इसकी उन्नत तकनीक ने इसे पंद्रह वर्षों तक सेवा करने की अनुमति दी। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी ने 2020 में 25 मिशनों पर काम करने की योजना बनाई है, जिसमें चंद्रयान 3 और गगनयान मिशन एक साथ शामिल हैं। इसरो के अध्यक्ष के सिवन ने कहा कि पहले मानवरहित मिशन के लिए योजना है। अगले साल तक खत्म हो सकती है।

Next Story
Top