Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

International Yoga Day 2019 Theme : आखिर क्यों योग दिवस पर तय की जाती है थीम, जानें योग दिवस की थीम का इतिहास

International Yoga Day 2019 : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की पहल से शुरू हुए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 (International Yoga Day 2019 Date) में भी हर साल की तरह इस साल भी 21 जून (21 June) को मनाया जायेगा। गूगल ट्रेंड (Google Trend) में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (World Yoga Day 2019) ट्रेंड कर रहा है। इस बार योगा डे की थीम क्लाइमेट एक्शन (Climate Action) रखी गई है। हर वर्ष योग दिवस एक थीम के साथ मनाया जाता है। इसके पीछे विशेष कारण हैं। आइए जानते हैं...

International Yoga Day ThemeInternational Yoga Day Theme

शुक्रवार को अपने देश के साथ पूरी दुनिया की सुबह योग करते हुए बीतेगी। क्योंकि पिछले 5 साल से इन दिन को अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में जाना जाता है। यूएन में भारत के तत्कालीन राजदूत अशोक मुखर्जी ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का प्रस्ताव पेश किया। 177 देशों ने इसपर सहमति दिखाई। ये पहला ऐसा प्रस्ताव था जिसपर 177 देशों ने एकसाथ सहमति दिखाई हो।

हर बार योग दिवस एक थीम पर आधारित होता है इसबार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2019 (International Yoga Day 2019) की थीम क्लाइमेट एक्शन (Climate Action) है। इस बार योग दिवस लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत रखने के साथ साथ देश के वातावरण को बेहतर बनाने के लिए भी जागरूक करेगा। जगह-जगह इसके लिए कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।


योग दिवस की थीम का इतिहास

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) की शुरूआत से ही हर बार एक थीम के साथ यह दिवस सेलीब्रेट किया जाता है। 2015 में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम सद्भभाव और शान्ति (Harmony and Peace) रखा गया था। एक साल बाद यानी 2016 में योग दिवस की थीम कॉनेक्ट दॉ यूथ (Connect the youth) रखी गई थी।

2017 में स्वास्थ्य के लिए योग (Yoga for Health) को थीम बनाया गया और 2018 में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम शान्ति (Yoga for Peace) के लिए योग रखी गई। योग दिवस का क्रेज साल दर साल बढ़ता गया। अब हालत ये है कि योग दिवस आने के 15 पहले से ही लोग इसका प्रचार प्रसार शुरू कर देते हैं।


योग दिवस को किसी थीम से जोड़ने के पीछे का आशय यह होता है कि योग को लेकर जागरुकता के साथ किसी एक जनमानस से जुड़े मुद्दे को लेकर भी जागरुकता फैलाई जाए। इस साल पड़ी गर्मी ने वातावरण को लेकर सोचने पर मजबूर कर दिया है। वातावरण को बेहतर करने के लिए जितनी जिम्मेदारी सरकार की है उतनी ही आम जनता की भी है।

Share it
Top