Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

International Yoga Day 2019 : पीएम मोदी ने बताया सेतुबंधासन के फायदे, जानें कैसे करें

International Yoga Day 2019 : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 में 21 जून (21 June) को मनाया जाएगा। पीएम नरेन्द्र मोदी का योग वीडियो (PM Modi Yoga Video) (14) आज मंगलवार को जारी किया गया। पीएम मोदी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल @narendramodi से जारी किए गए वीडयो में पीएम मोदी ने सेतुबंधासन के लाभ (Setu Bandhasana Benefits), सेतुबंधासन कैसे करें, सेतुबंधासन की सावधानियां और सेतुबंधासन के लाभ के बारे में बताया।

International Yoga Day 2019 : पीएम मोदी ने बताया सेतुबंधासन के फायदे, जानें कैसे करेंPM Modi Yoga Video Setu Bandhasana

International Yoga Day 2019 : अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2019 में 21 जून (21 June) को मनाया जाएगा। पीएम नरेन्द्र मोदी का योग वीडियो (PM Modi Yoga Video) (14) आज मंगलवार को जारी किया गया। पीएम मोदी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल @narendramodi से जारी किए गए वीडयो में पीएम मोदी ने सेतुबंधासन के लाभ (Setu Bandhasana Benefits), सेतुबंधासन कैसे करें, सेतुबंधासन की सावधानियां और सेतुबंधासन के लाभ के बारे में बताया। पीएम मोदी ने ट्वीट में एनिमेटेड वीडियो साझा करते हुए कहा कि क्या आपने सेतु बंधासन का अभ्यास किया है? एक वीडियो साझा किया हूं मैं जो आपको यह आसन करने का तरिका सिखाएगा और इसके कुछ लाभों को भी बताएगा। #YogaDay2019 पीएम मोदी के योगासन सीरिज का आज चौदहवां एनिमेटेड वीडियो जारी किया है। इससे पहले पीएम मोदी ने 'उष्ट्रासन', 'त्रिकोणासन', 'ताड़ासन', 'वृक्षासन', 'अर्ध चक्रासन', 'पादहस्तासन', भद्रासन, वक्रासन, वज्रासन, पवनमुक्तासन, शशांकासन और शलभासन के फायदे बताए थे। इस सीरिज में पीएम मोदी रोज अलग-अलग योगासनों के बारे में विस्तार से बताते हैं। विश्व योग दिवस (World Yoga Day) पर पिछले साल भी पीएम ने योगासन के कई वीडियो ट्वीट किए थे। आइए जानते हैं सेतुबंधासन कैसे करें।

2 मिनट 28 सेकेंड के इस वीडियो में पीएम मोदी ने इस आसन के कई फायदे व किन परिस्थियों में इसे नहीं करना चाहिए बताया, आईए जानते हैं क्या कहा पीएम मोदी ने...

सेतुबंधासन कैसे करें (How to do Setu Bandhasana)

  • सबसे पहले अपनी पीठ के बल फ्लैट लेट जाएं।
  • अपने बाज़ुओं को धड़ के साथ रख लें।
  • टांगों को मोड़ कर पैरों को अपने कूल्हों के करीब ले आएं।
  • जितना करीब हो सके उतना लायें।हाथों पर वज़न डाल कर धीरे धीरे कूल्हों को उपर उठाएं। ऐसा करते वक़्त श्वास अंदर लें।
  • पैरों को मज़बूती से टिका कर रखें। पीठ जितनी मोडी जाए, उतनी ही मोड़ें।
  • अपनी क्षमता से ज़्यादा न करें।
  • अभ्यास के साथ धीरे धीरे आप ज़्यादा कर सकते हैं।
  • अब दोनो हाथों को जोड़ लें।
  • आपके लिए मुमकिन हो तो दृष्टि नाक पर केंद्रित करें वरना छत की ओर देख सकते हैं।
  • इस मुद्रा में 5-10 सेकेंड रहें, फिर कूल्हों को वापिस ज़मीन पर टिकाएं।
  • नीचे आते वक़्त श्वास छोड़ें। हो सके तो 2 से 3 बार दौहराएं।
    • अगर इतना ना हो तो जितना हो सके उतना करें। आसान से बाहर निकालने के लिए विपरीत क्रम में स्टेप्स करें।

    सेतुबंधासन के लाभ (Benefits of the Setu Bandhasana)

    • सेतुबंधासन रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाता है।
    • छाती, गर्दन, और रीढ़ की हड्डी की समस्या को दूर करता है।
    • मस्तिष्क को शांत करता है और तनाव और हल्के अवसाद को कम करने में मदद करता है सेतुबंधासन।
    • पाचन में सुधार लाता है। सेतुबंधासन पेट के अंगों, फेफड़ों और थायराइड को उत्तेजित करता है।
    • बुजुर्गों के टांगों को फिर से जीवंत बनाता है। रजोनिवृत्ति के लक्षणों को दूर करने में मदद करता है सेतुबंधासन।
    • मासिक धर्म में होने वाली परेशानी से राहत देता है। सेतुबंधासन दमा, हाई बीपी, ऑस्टियोपोरोसिस और साइनसाइटिस के लिए फायदेमंद है।
    • चिंता, थकान, पीठ दर्द, सिरदर्द, और अनिद्रा कम कर देता है।

सेतुबंधासन करते समय सावधानियां (Setu Bandhasana Precautions)

  • गर्भवती महिलाएं सेतु बंधासन कर सकती हैं लेकिन उन्हें योगा प्रशिक्षक की देखरेख में ही यह आसन करना चाहिए।
  • यदि आपके घुटनों में गंभीर दर्द हो तो इस आसन को न करें।
  • सेतु बंधासन का अभ्यास करते समय अपने सिर को दाएं और बाएं घुमाने से बचें।
  • यदि आपके गर्दन, पीठ, कंधे एवं कमर में चोट लगी हो तो सेतु बंधासन का अभ्यास न करें।
  • इस आसन को तब किया जाता है जब पेट और आंत बिल्कुल खाली हो।
  • इसके अलावा यदि भोजन के बाद कोई व्यक्ति सेतुबंधासन का अभ्यास करना चाहता है तो उसे यह आसन करने से लगभग 4 से 6 घंटे पहले ही भोजन कर लेना चाहिए।
Share it
Top