Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

IAF : ऐसे हुई विमान एएन-32 के मलबे की खोज, जानें 9 दिनों तक का पूरा अपडेट

भारतीय वायु सेना का विमान एएन-32 का मलबा 8 दिनों बाद आज मिल गया है। विमान का मलबा अरुणांचल प्रदेश के सियांग जिले से वायुसेना ने बरामद किया है। इस विमान में 13 लोग सवार थे। एयरफोर्स ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि लिपो नामक जगह से करीब 16 किमी की दूरी पर पाया गया। लापता विमान को वायुसेना ने करीब 12 हजार फुट की ऊंचाई से देखा। मलबा मिलने के बाद वायुसेना ने सर्च अभियान तेज कर दिया है। इस हादसे में सरकार द्वारा विमान तलाशने में क्या एक्शन लिया गया आईए जानते हैं।

IAF : ऐसे हुई विमान एएन-32 के मलबे की खोज, जानें 9 दिनों तक का पूरा अपडेट

भारतीय वायु सेना (IAF) का विमान एएन-32 (AN-32) का मलबा 8 दिनों बाद आज मिल गया है। विमान का मलबा (AN-32 Wreckage) अरुणांचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) के सियांग (Siyang) जिले से वायुसेना (Indian AIrforce) ने बरामद किया है। इस विमान में 13 लोग सवार थे। एयरफोर्स ने अपने ट्विटर हैंडल पर इस खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि लिपो (Lipo Arunachal Pradesh) नामक जगह से करीब 16 किमी की दूरी पर पाया गया। लापता विमान को वायुसेना ने करीब 12 हजार फुट की ऊंचाई से देखा। मलबा (AN 32 Wreckage) मिलने के बाद वायुसेना ने सर्च अभियान (AN-32 Search Operation) तेज कर दिया है। इस हादसे में सरकार द्वारा विमान तलाशने में क्या एक्शन लिया गया आईए जानते हैं।

3 जून के दिन जब विमान लापता हुआ

वायुसेना का विमान एएन 32 ने 3 जून को असम के जोरहाट से उड़ान भरी जिस पर वायुसेना के 13 स्टाफ सवार थे। इसके बाद खबर आई कि दोपहर करीब एक बजे विमान का संपर्क वायुसेना के कंट्रोल रूम से टूट गया। बता दें कि विमान का लैंडिंग अरुणाचल प्रदेश के मेचुका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड पर होना था।

विमान लापता होने का दूसरा दिन (4 जून)

वायुसेना के लापता विमान को खोजने के लिए भारतीय वायुसेना की एक टीम ने सुखोई सु-30 से तलाशी अभियान जारी किया। इसके साथ ही सी-130 हरक्यूलिस स्पेशल एयरक्राफ्ट को भी एएन-32 के तलाशी अभियान में वायुसेना ने शामिल किया। इसके बाद भी जब विमान का पता न चल सका तो MI-17 को भी तलाशी अभियान में लगाया गया।

विमान लापता होने का तीसरा दिन (5 जून)

एयरफोर्स का सर्च अभियान इस दिन भी विमान की खोज में लगी हुई थी लेकिन लो-विजिबिलिटी व कम रोशनी के कारण सर्च ऑपरेशन कैंसिल कर दिया गया लेकिन भारतीय नौसेना ने एयरक्राफ्ट पी-81 को तलाशी अभियान में लगाया।

विमान लापता होने का चौथा दिन (6 जून)

लापता होने वाले एयरफोर्स के स्टाफ के परिजनों ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से इस दिन मुलाकात की। रक्षा मंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया की वे जल्द ही सकुशल वापस लौटेंगे साथ ही उन्होंने सर्च ऑपरेशन की मौजूदा स्थितियों से अवगत कराया। इस दिन भी वायुसेना को कामयाबी नहीं मिली। इसके बाद वायुसेना ने UAV को भी लगा दिया।

विमान लापता होने का पांचवा दिन (7 जून)

वायुसेना के लापता विमान का चार दिन बाद भी सुराग नहीं मिल पाया। सर्च ऑपरेशन को तेज करते हुए सरकार ने दो चीता विमान भी लगा दिया। इसके बाद एयरफोर्स ने इसरो से मदद मांगी और इसरो ने सैटेलाइट कार्टोसैट और रीसैट को इस सर्च अभियान में लगा दिया। इसके बाद भी वायुसेना का विमान नहीं मिल पाया।

विमान लापता होने का छठवां दिन (8 जून)

वायुसेना व इसरो के नाकाम कोशिशों के बाद एएन-32 का पता देने वाले को 5 लाख का इनाम देने की घोषणा की। आज के दिन वायुसेना के प्रमुख बीएस धनोआ सर्च ऑपरेशन की जानकारी लेने असम के जोरहाट पहुंचे।

विमान लापता होने का सातवां दिन (9 जून)

आज विमान लापता हुए पूरे एक सप्ताह हो गए फिर भी विमान का पता न चल सका। आज भी मौसम ने करवट ली और बादल छा गए जिसके कारण सर्च ऑपरेशन रोकना पड़ा।

विमान लापता होने का आठवां दिन (10 जून)

वायुसेना, नौसेना और इसरो की लाख कोशिशों के बावजूद भी विमान का पता नहीं चल पाया लेकिन एयरफोर्स के जाबांज पायलटों ने हिम्मत नहीं हारी और रात को मौसम ठीक होते ही फिर से तलाशी अभियान में जुट गए।

विमान लापता होने का नौवां दिन (11 जून)

आज यानी मंगलवार का दिन वायुसेना के विमान का मलबा अरुणाचल प्रदेश में पाया गया। तलाशी में लगे वायुसेना के चॉपर विमान ने इलाके की छानबीन में आज दोपहर राज्य के सियांग जिले के लिपो नामक जगह से करीब 16 किमी की दूरी पर विमान का मलबा देखा। वायुसेना ने इस बात की आधिकारिक पुष्टि कर दी है।

Share it
Top