Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

India wants Didi: टीएमसी ने 2024 में ममता को पहली बंगाली पीएम बनाने के लिए अभियान शुरू किया, जानिए क्या है रणनीति

डजिटल अभियान के हिस्से के रूप में टीएमसी देश भर के लोगों से जुड़कर अपनी उपलब्धियों का पूरे देश में प्रचार करेगी।

India wants Didi: टीएमसी ने 2024 में ममता को पहली बंगाली पीएम बनाने के लिए अभियान शुरू किया, जानिए क्या है रणनीति
X

भारत में साल 2024 में लोकसभा के चुनाव होंगे। लेकिन लोकसभा चुनाव की तपिश देश की राजनीति में अभी से नजर आने लगी है। साल 2021 में भारतीय जनता पार्टी को पश्चिम बंगाल की सियासी पिच पर पटखनी देने वाली सीएम ममता बनर्जी ने इस दावेदारी के लिए अपना नाम आगे बढ़ा दिया है। 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस ने पिछले साल राज्य विधानसभा चुनावों के दौरान अपने 'बांग्ला निजेर मेये चाई' (बंगाल अपनी बेटी चाहता है) के प्रचार की तर्ज पर 'इंडिया वॉन्ट्स ममता दी' (भारत चाहता है दीदी) नामक एक नया अभियान शुरू किया है।

इस नये अभियान का मिशन 2024 में बंगाल की सीएम ममता बनर्जी को भारत की पहली बंगाली प्रधानमंत्री बनाने के लिए जनमत को उत्तेजित करना है। ये समय तब होगा जब ममता बनर्जी राजनीति में 40 साल पूरी कर चुकी होंगी। पार्टी ने India Wants Mamata Di का नारा दिया है। डिजिटल अभियान के हिस्से के रूप में टीएमसी देश भर के लोगों से जुड़कर अपनी उपलब्धियों का पूरे देश में प्रचार करेगी। तृणमूल कांग्रेस के अभियान की पहली लाइन में लिखा है कि अब दिल्ली में होगी मां-माटी और मानुष की सरकार।

तृणमूल कांग्रेस ने इस अभियान को धार देने के लिए indiawantsmamatadi.com नाम से एक वेबसाइट लॉन्च की है। इस वेबसाइट जानकारी दी गई है कि टीएम से जल्दी ही पूरे भारत में अपना अभियान चलाएगी और सीएम ममता बनर्जी के विचारों को पूरे देश की जनता तक पहुंचाएगी। यह भी कहा गया कि हम चाहते हैं कि हर भारतीय को सुशासन मिले।

टीएमसी साल 2024 में जब ममता बनर्जी अपने राजनीतिक जीवन के चार दशक यानी 40 साल पूरे कर लेंगी तो उन्हें देश का पीएम बनाकर यही नीति को पूरे देश में ले जाना चाहते हैं। टीएमसी का कहना है कि 'इंडियावॉन्ट्सममतादी समुदाय दिन-प्रतिदिन बढ़ रहा है और नए सदस्य स्वेच्छा से साइन अप कर रहे हैं। पार्टी का अगला कदम ममता बनर्जी के आदर्शों को आगे बढ़ाकर पूरे भारत में पार्टी की इकाइयों का विस्तार करना है।

और पढ़ें
Next Story