Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत को 2027 में मिल सकती है पहली महिला सीजेआई, एससी कोलेजियम ने 9 नामों की सिफारिश भेजी

कॉलेजियम (collegium) ने पहली बार 3 महिला न्यायाधीशों के नामों की सिफारिश की है। इसमें कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) की जज जस्टिस बीवी नागरत्ना (Justice BV Nagarathna), तेलंगाना हाईकोर्ट (Telangana High Court) की चीफ जस्टिस हिमा कोहली (Chief Justice Hima Kohli) और गुजरात हाईकोर्ट (Gujarat High Court) की जज जस्टिस बेला त्रिवेदी (Judge Justice Bela Trivedi) के नाम शामिल है। इनके नाम केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) को भेजे गए हैं।

भारत को 2027 में मिल सकती है पहली महिला सीजेआई, एससी कोलेजियम ने 9 नामों की सिफारिश भेजी
X
सुप्रीम कोर्ट

सुप्रीम कोर्ट कोलेजियम एक साल 10 महीने बाद 9 नई नियुक्तियों की सिफारिश भेजी है। सीजेआई एनवी रमण ने बीते मंगलवार को केंद्र सरकार के पास यह नाम भेजे हैं। इनमें तीन नाम महिला न्यायाधीशों के भी शामिल हैं। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तीन महिला न्यायाधीशों में से एक आने वाले समय में भारत (India) की पहली महिला चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (Chief Justice of India) भी बन सकती है।

कॉलेजियम (collegium) ने पहली बार 3 महिला न्यायाधीशों के नामों की सिफारिश की है। इसमें कर्नाटक हाईकोर्ट (Karnataka High Court) की जज जस्टिस बीवी नागरत्ना (Justice BV Nagarathna), तेलंगाना हाईकोर्ट (Telangana High Court) की चीफ जस्टिस हिमा कोहली (Chief Justice Hima Kohli) और गुजरात हाईकोर्ट (Gujarat High Court) की जज जस्टिस बेला त्रिवेदी (Judge Justice Bela Trivedi) के नाम शामिल है। इनके नाम केंद्र की मोदी सरकार (Modi Government) को भेजे गए हैं। बताया जा रहा है कि साल 2027 में जज जस्टिस नागरत्ना भारत (India) की पहली महिला सीजेआई (Woman CJI) बन सकती हैं।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में फिलहाल एक महिला जज जस्टिस इंदिरा बनर्जी हैं। वह सितंबर 2022 में सेवानिवृत्त होने वाली हैं। सुप्रीम कोर्ट में अब तक केवल आठ महिला न्यायाधीशों की नियुक्ति हुई है। जज जस्टिस रोहिंटन नरीमन के सुप्रीम कोर्ट से रिटायर होने के कुछ ही दिनों बाद यह सिफारिशें की गई हैं। जानकारी के लिए आपको बता दें कि जज जस्टिस नरीमन वर्ष 2019 से कॉलेजियम के सदस्य थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, नरीमन, कर्नाटक हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अभय ओका और त्रिपुरा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस अकील कुरैशी की सिफारिश पहले करने की बात कर रहे थे। वह अपने रुख पर अड़े हुए थे, जिसके चलते कोलेजियम से नाम भेजे नहीं जा रहे थे। बताया जा रहा है कि यदि सरकार इन सिफारिशों को स्वीकार करती है तो सुप्रीम कोर्ट में सभी मौजूदा खाली पद भर जाएंगे और न्यायाधीशों की संख्या बढ़कर 33 हो जाएगी। आज जज जस्टिस नवीन सिन्हा रिटायर होने वाले हैं।

Next Story