Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Coronavirus: कोरोना वायरस को लेकर भारत पूरी तरह तैयार, प्रति दिन हो रहा 1400 नमूनों का परीक्षण

Coronavirus: भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक डॉ.बलराम भार्गव ने कहा है कि हम पहले से ही जानते हैं कि हम स्टेज 2 में हैं।

Coronavirus: कोविड 19 जांच को लेकर केंद्र सरकार का दावा, विश्व में सबसे ज्यादा जांच करने की क्षमताCoronavirus: कोविड 19 जांच को लेकर केंद्र सरकार का दावा, विश्व में सबसे ज्यादा जांच करने की क्षमता

Coronavirus: कोरोना वायरस से भारत ही नहीं, बल्कि पूरा विश्व परेशान हैं। लेकिन भारत में कोरोना वायरस को लेकर शुरुआत से ही तैयारियां की जा रही हैं। जहांं एक तरफ सरकार ने पूरे देश के सभी स्कूलों और कॉलेजों के साथ साथ सिनेमाघरों और हर तरह की भीड़भाड़ पर रोक लगा दी है। वहीं कई नई प्रयोगशालाओं का भी विकास किया जा रहा है।

इसी के अन्तर्गत भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक डॉ.बलराम भार्गव ने अपना बयान जारी कर इसकी जानकारी दी है। उन्होंने कहा है कि हम पहले से ही जानते हैं कि हम स्टेज 2 में हैं। स्पष्ट रूप से हम स्टेज 3 में नहीं हैं। उन्होंने कहा कि हम अपनी प्रयोगशालाओं (laboratories)की संख्या बढ़ा रहे हैं और आज हमारे पास ICMR प्रणाली में 72 कार्यात्मक प्रयोगशालाएँ हैं।

हमारे पास हैं 49 प्रयोगशालाएं

डॉ.बलराम भार्गव ने कहा कि हम गैर-आईसीएमआर, स्वास्थ्य मंत्रालय ,सरकार की प्रयोगशालाओं में डीआरडीओ, सरकार मेडिकल कॉलेज और डीबीटी से जुड़े हुए हैं। उन्होंने कहा कि हमारे पास 49 प्रयोगशालाएं हैं। जिनमें परीक्षण इस सप्ताह के अंत तक शुरू हो जाएगा।

डॉ.बलराम भार्गव ने कहा कि हम 2 हाई थ्रूपुट प्रणालियों पर भी काम कर रहे हैं जो तेजी से परीक्षण करने वाली प्रयोगशालाएं हैं। इनका संचालन 2 स्थानों पर किया जाएगा। प्रति दिन 1400 नमूनों का परीक्षण उन प्रयोगशालाओं में किया जा सकेगा। हम उन्हें इस सप्ताह के अंत तक शुरू कर देंगे।

नहीं है कोई कम्यूनिटी ट्रांसमिशन

डॉ.बलराम भार्गव ने कहा कि वायरस फैलने के चार चरण हैं। जिसमें से तीसरा स्टेज कम्यूनिटी ट्रांसमिशन है। हम आशा करते हैं कि हम उस स्टेज तक ना पहुंचे। यह निर्भर करता है कि कितनी गंभीरता के साथ हम हमारे अन्तरराष्ट्रीय बॉर्डर को बंद रखते हैं। जिसके लिए सरकार उचित कदम उठा रही है। लेकिन ऐसा कहा नहीं जा सकता कि कम्यूनिटी ट्रांसमिशन नहीं होगा।

उन्होंने कहा कि हमने अलग-अलग लोगों से 20 सैंपल लेकर उसका परीक्षण किया जिनमें कुछ समस्याएं दिख रही थी। लेकिन 500 मरीजों के परीक्षण करने के बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे की अभी तक कम्यूनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। अभी सिर्फ उन्हीं लोगों में ये लक्षण पाए जा रहे हैं, जिन्होंने विदेशों की यात्रा की है।

कोरोना वायरस का निदान हो नि:शुल्क

डॉ.बलराम भार्गव ने कहा कि हम सभी निजी प्रयोगशालाओं से यह निवेदन करते हैं कि कोरोना वायरस का निदान नि:शुल्क प्रदान करें।

Next Story
Top