Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बेंगलुरु में गर्भवती महिला को अस्पतालों ने भर्ती करने से किया इनकार, ऑटो में दिया बच्चे को जन्म, नवजात की मौत

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गर्भवती महिला को श्रीरामपुरा सरकारी अस्पताल, विक्टोरिया अस्पताल और वनिविलास अस्पताल ने भर्ती करने से इनकार कर दिया। इन सभी अस्पतालों ने कहा कि उनके पास महिला को भर्ती करने के लिए बेड उपलब्ध नहीं है।

बेंगलुरु में गर्भवती महिला को अस्पतालों ने भर्ती करने से किया इनकार, ऑटो में दिया बच्चे को जन्म, नवजात की मौत
X
इलाज ना मिलने की वजह से नवजात की मौत, फोटो फाइल

कोरोना संकट से जूझ रहे देश में एक बार फिर दुखद घटना सामने आई है। बेंगलुरु के केसी जनरल अस्पताल के बाहर इलाज नहीं मिलने के कारण एक नवजात बच्चे की मौत हो गयी। यहां पर एक गर्भवती महिला को इलाज के लिए ऑटो से लेकर उसके परिजन भटकते रहे, लेकिन तीन सरकारी अस्पतालों ने जगह नहीं होने की बात कहकर गर्भवती महिला को एडमिट नहीं किया। लेकिन प्रसव पीड़ा अधिक बढ़ती हुई और महिला ने ऑटो में बच्चे का जन्म दे दिया। लेकिन इलाज नहीं मिलने की वजह से बच्चे की मौत हो गयी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, गर्भवती महिला को श्रीरामपुरा सरकारी अस्पताल, विक्टोरिया अस्पताल और वनिविलास अस्पताल ने भर्ती करने से इनकार कर दिया। इन सभी अस्पतालों ने कहा कि उनके पास महिला को भर्ती करने के लिए बेड उपलब्ध नहीं है। बता दें कि विक्टोरिया अस्पताल को कोविड-19 अस्पताल बनाया गया है। शहर में विल्सन गार्डन गर्भवती महिलाओं के लिए समर्पित एक अस्पताल है।

खबरों की मानें तो महिला के परिजन कोरोना संकट से निपटने के लिए पहले से ही शहर में सुबह तीन बजे से अस्पताल में बेड की तलाश के लिए संघर्ष कर रहे थे। 6 घंटे के संघर्ष के बाद भी उन्हें बेड उपलब्ध नहीं हो पाया। तब महिला ने ऑटो में ही बच्चे को जन्म दे दिया। कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने ट्वीट कर मामले को प्रकाश में लाया और राज्य के सीएम बीएस येदियुरप्पा से अपील की कि वे इस मुद्दे पर उचित कार्रवाई करें।

Next Story