Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haribhoomi-Inh News: एनकाउंटर की गोली, सियासत की बोली! प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने की चर्चा

प्रधान संपादक ने कार्यक्रम के शुरुआत में कहा कि एक ऐसे बयान से है, जिसने एक बार फिर देश में हिंदू और मुसलमान की राजनीति को केंद्र में ला दिया है। दरअसल एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी के एक बयान ने उत्तर प्रदेश में ध्रुवीकरण की सियासत को और गरमा दिया है।

Haribhoomi-Inh News: एनकाउंटर की गोली, सियासत की बोली! प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने की चर्चा
X

Haribhoomi-Inh Exclusive: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने यूपी में हो रहे एनकाउंटरों को लेकर बातचीत की। प्रधान संपादक ने कार्यक्रम के शुरुआत में कहा कि एक ऐसे बयान से है, जिसने एक बार फिर देश में हिंदू और मुसलमान की राजनीति को केंद्र में ला दिया है। दरअसल एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी के एक बयान ने उत्तर प्रदेश में ध्रुवीकरण की सियासत को और गरमा दिया है। बलरामपुर में उन्होंने कहा कि यूपी में पुलिस मुठभेड़ों में मारे गए लोगों में 37 प्रतिशत मुस्लिम हैं। जबकि राज्य में मुस्लिमों की आबादी 18-19 फीसद है। असदुद्दीन ओवैसी ने जनसभा को संबोधित करते हुए यह भी कहा कि 'कानून की धज्जियां उड़ाने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोई कसर नहीं छोडी है। योगी सिर्फ एक ही मजहब और जाति बिरादरी की बात करते हैं। ओवैसी योगी के सेकुलरिज्म के बयान पर भड़के और कहा कि भारत को मुकाम दिलाने में सेकुलरिज्म ने रोका है। तो डीजल-पेट्रोल के दाम क्यों बढ़े? ऐसे तमाम सवालो पर पलटवार भी हुआ है....

कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने भाजपा विधायक कमल सिंह मलिक, एआईएमआईएम प्रवक्ता अजमल खान, सपा प्रवक्ता मनोज यादव, वरिष्ठ पत्रकार विनोद अग्निहोत्री और उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी सूर्य कुमार शुक्ला से खास बातचीत की। खास कार्यक्रम के दौरान इन मेहमानों से कई सवाल पूछे...

एनकाउंटर की गोली, सियासत की बोली !

'चर्चा'

असदुद्दीन ओवैसी लगातार चुनावी राज्यों में अपनी मौजूदगी दर्ज करवा रहे हैं। ऐसे में उत्तर प्रदेश में भी ओवैसी ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई। बीते दिन उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने यूपी के सीएम पर पुलिस एनकाउंटर को लेकर सवाउ उठाए। ओवैसी ने दावा किया कि उत्तर प्रदेश में पुलिस मुठभेड़ों के दौरान मुसलमानों को मारा जा रहा है। उन्होंने कहा कि 2017 और 2020 के बीच राज्य में अपराधियों की 6,475 मुठभेड़ों में से 37 फीसदी मुस्लिम थे। उन्होंने कहा कि 2017 और 2020 के बीच 6475 मुठभेड़ हुईं। मुठभेड़ों में मारे गए लोगों में 37 फासदी मुस्लिम थे। यह अत्याचार क्यों हुआ। क्या सरकार संविधान के अनुसार काम कर रही है। यह उत्तर प्रदेश के लोगो तय करेंगे। रविवार को बलरामपुर में एक रैली को संबोधित करते हुए योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा।

Next Story