Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haribhoomi-Inh News: असहमति और विद्वेष कैसे मजबूत होगा देश?, चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ

Haribhoomi-Inh News: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने शुरुआत में कहा कि नमस्कार आपका स्वागत है हमारे खास कार्यक्रम चर्चा में, चर्चा के तहत आज हम एक बार फिर देश के मौजूदा हालात पर बातचीत की। हमारा आज का विषय है असहमति और विद्वेष कैसे मजबूत होगा देश?

Haribhoomi-Inh News: असहमति और विद्वेष कैसे मजबूत होगा देश?, चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ
X

Haribhoomi-Inh News: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने शुरुआत में कहा कि नमस्कार आपका स्वागत है हमारे खास कार्यक्रम चर्चा में, चर्चा के तहत आज हम एक बार फिर देश के मौजूदा हालात पर बातचीत की। हमारा आज का विषय है असहमति और विद्वेष कैसे मजबूत होगा देश?

देश कैसे मजबूत होगा, जब बड़ा ही अजीबोगरीब दृश्य देश में देखने को मिल रहे हैं। अगर देश के दो सबसे महत्वपूर्ण राजनीतिक दलों की बात करें अर्थात भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी दोनों ही यह बताने की कोशिश करते हैं कि एकमात्र उद्देश्य राजनीति का देश को मजबूत करना है। इसी के लिए वह लगातार काम कर रहे हैं। दोनों ही अपने प्रतिद्वंदी दल के संदर्भ में यह कहते हैं कि इनके कारण देश को विभाजित करने के हैं। देश को नुकसान पहुंचा रहे हैं। एक तरफ कांग्रेस पार्टी है जो देश में एकजुट यात्रा निकालेगी। दूसरी तरफ है भारतीय जनता पार्टी जिसने अभी हैदराबाद में राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक की।

भारतीय जनता पार्टी और देश के माननीय प्रधानमंत्री ने आह्वान किया कि भारतीय जनता पार्टी के संगठन से हमें देश में एकजुटता का माहौल बनाना चाहिए। इसलिए भारतीय जनता पार्टी को देश भर में एक स्नेह यात्रा निकालनी चाहिए। एक तरफ भारत जोड़ो यात्रा निकल रही थी। लेकिन इस सब के बीच में जो बयान है, जो दृश्य सामने आ रहे हैं। वो बता रहे हैं कि सब कुछ बिखर रहा है। एक दूसरे के प्रति सद्भावना को मार रहे हैं। इन सबके बीच में धर्म गुरुओं की बात करें तो धर्मगुरुओं ने भी तलवारें म्यान से बाहर निकाल ली है।


चाहे मुस्लिम, चाहे हिंदू धर्म। धर्म संसद से जुड़े हुए लोगों की बात करें, जब धर्म संसद का आह्वान होता है तो धर्म संसद में तलवार निकालने की बात कही जाती है। घर में रखने की बात कही जा रही है। महात्मा गांधी को गाली दी जा रही है। एक से बढ़कर धर्म गुरू सिर काटने की बात कर रहे हैं। लेकिन आज जिस तरह की अजमेर दरगाह के खादिम का बयान आया और ऐसे में सुप्रीम कोर्ट में एक खुला पत्र देश की हस्तियों ने भेजा है। इस कार्यक्रम को इसीलिए हम लेकर आए हैं आपके लिए, इसी ताजा मामले पर बातचीत कर रहे हैं, कई खास मेहमान हमारे जुड़े हुए हैं।

असहमति और विद्वेष कैसे मजबूत होगा देश?

'चर्चा'

और पढ़ें
Next Story