Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haribhoomi-Inh News: UP में 'जिन्ना का जिन्न' ! 'चर्चा' प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ

हरदोई जिले में समाजवादी विजय रथ यात्रा लेकर पहुंचे अखिलेश यादव ने जिन्ना को आजादी का नायक बताया। अपने भाषण में उन्होंने जिन्ना की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने आजादी के लिए संघर्ष किया था।

Haribhoomi-Inh News: UP में जिन्ना का जिन्न ! चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ
X

Haribhoomi-Inh News: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम 'चर्चा' में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने शुरुआत में कहा कि नमस्कार आपका स्वागत है हमारे खास कार्यक्रम चर्चा में, UP में 'जिन्ना का जिन्न' !… दरअसल उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं और वहां के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना का जिक्र छेड़ कर एक नए विवाद की शुरूआत कर दी है।

हरदोई जिले में समाजवादी विजय रथ यात्रा लेकर पहुंचे अखिलेश यादव ने जिन्ना को आजादी का नायक बताया। अपने भाषण में उन्होंने जिन्ना की तारीफ करते हुए कहा कि उन्होंने आजादी के लिए संघर्ष किया था। उन्होंने कहा कि जिन्ना, गांधी और पटेल की सोच एक ही थी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पटेल से जिन्ना की तुलना शर्मनाक है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब तक दो बार समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते वक्त 'अब्बाजान' शब्द का इस्तेमाल कर चुके हैं। सवाल यह उठता है कि क्या अखिलेश यादव का ये बयान वोटबैंक की तुष्टिकरण के लिए है, क्योंकि इससे पहले उनके पिता और पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव एम वाय यानी मुस्लिम और यादव समीकरण के चलते सरकार बनाने में कामयाब रहे थे…

UP में 'जिन्ना का जिन्न' !…

'चर्चा'

अखिलेश के बयान पर यूपी में मचा बवाल

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीते रविवार को हरदोई में पार्टी की एक रैली के दौरान मुहम्मद अली जिन्ना का महिमामंडन किया। जिसके बाद बीजेपी से लेकर कई अन्य पार्टीयों ने अखिलेश को घेर लिया। अखिलेश ने गांधी, पटेल और नेहरू के साथ जिन्ना का नाम भी जोड़ा। भारत रत्न सरदार वल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा का अनावरण करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, सरदार पटेल, जवाहरलाल नेहरू और जिन्ना एक ही संस्थान से निकले हैं। बैरिस्टर बने और आजादी लाए। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने आजादी के लिए हर तरह की लड़ाई लड़ी। यदि भाजपा वास्तव में पटेल जी पर विश्वास करती है, तो तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करें। इस दौरान उन्होंने सरकार पर हमला बोलते हुए यह भी कहा कि भाजपा सरकार साढ़े चार साल में एक भी काम का शिलान्यास नहीं कर पाई है।

Next Story