Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haribhoomi-Inh Exclusive: 'मंदिर का चंदा या सियासी फंदा', चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ देखें यहां

Haribhoomi-Inh Exclusive: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम चर्चा में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने आज 'मंदिर का चंदा या सियासी फंदा' विषय पर चर्चा की है।

haribhoomi inh exclusive editor in chief dr himanshu dwivedi discussion temple fund or political trap
X

प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी

Haribhoomi-Inh Exclusive: हरिभूमि-आईएनएच के खास कार्यक्रम चर्चा में प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने आज 'मंदिर का चंदा या सियासी फंदा' विषय पर चर्चा की है। प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने अपने खास कार्यक्रम में चर्चा की शुरुआत करते हुए कहा कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण होने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। जिसके साथ ही इस पर विवाद भी शुरू हो चुका है। विवाद का विषय ये है कि जिसके लिए आरएसएस ने अपने 4 लाख कार्यकर्ता को चंदा इकट्ठा कराने के अभियान में जुटा दिया है। इस चंदा अभियान में भाजपा भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रही है।

वहीं इस मंदिर चंदा अभियान पर कांग्रेस, शिवसेना, सपा और राजद सियासी पार्टी सवाल उठा रही है। इन विपक्षी सियासी दलों का कहना है कि यह मंदिर वगैरा का मुद्दा नहीं है, बल्कि भाजपा इसके जरिए अपनी सियासत को जिंदा रखना चाहती है। विपक्षी दल घर-घर जाकर चंदा मांग कर मंदिर का निर्माण करने को राम जी का व राम जी के सेवकों का अपमान करार दे रहे हैं। जिसमें उसकी मदद करने में आरएसएस भी पूरी तरह से जुटा हुआ है। चर्चा के दौरान प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने कहा कि इस देश में राम मंदिर और आरएसएस बीते 34-35 वर्षों से एक-दूसरे के पर्याय रहे हैं।

'मंदिर का चंदा या सियासी फंदा' विषय पर प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने हनुमानगढ़ी अयोध्या अध्यक्ष महंत राजू दास, विहिप राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल, कांग्रेस पूर्व सांसद हरेंद्र सिंह मलिक और वरिष्ठ पत्रकार श्रवण गर्ग के साथ बातचीत की। इस दौरान प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने वार्ता में मौजूद रहे चारों महमानों से सवाल किया कि क्या कांग्रेस, शिवसेना, सपा और राजद विपक्षी सियासी दलों को भव्य मंदिर के लिए चंदा इकट्ठा किए जाने पर सवाल उठाने चाहिए?

वहीं प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी ने यह भी प्रश्न किया कि भव्य राम मंदिर निर्माण् के लिए घर-घर जाकर चंदा इकट्ठा किए जाने की क्या जरूरत है? क्या इनको यह भरोसा नहीं है कि लोग स्वेच्छा से भव्य राम मंदिर निर्माण के लिए चंदा नहीं देगें? 'मंदिर का चंदा या सियासी फंदा' खास चर्चा प्रधान संपादक डॉ. हिमांशु द्विवेदी के साथ देखें......


Next Story