Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Haribhoomi Bulletin: ये दिनभर की बड़ी खबरें बनी सुर्खियां

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि सीमा पर जो कुछ भी हुआ उसके लिए हम जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी या राहुल गांधी को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते हैं।

Haribhoomi Bulletin: ये दिनभर की बड़ी खबरें बनी सुर्खियां
X

Haribhoomi Bulletins: हरिभूमि (Haribhoomi) पर आप देश-दुनिया और अपने राज्यों की खबरें पढ़कर अपडेट रह सकते हैं। लद्दाख में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए। वहीं आज ओडिशा में भारतीय जनता के विधायक मदन मोहन दत्ता का निधन हो गया है। राजनाथ सिंह ने कहा कि गलवान में सैनिकों की क्षति परेशान करने वाली और दर्दनाक है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि सीमा पर जो कुछ भी हुआ उसके लिए हम जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी या राहुल गांधी को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते हैं। यहां पढ़ें देश दुनिया और राज्य की तमाम बड़ी खबरें..

चीनी सेना के साथ झड़प में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद

पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में चीन के साथ हिंसक झड़प में भारत के 20 जवान शहीद हो गए। सरकारी सूत्रों ने बताया कि इस झड़प में चीन के 43 सैनिक हताहत हुए हैं। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो एलएसी (LAC) के पास चीनी हेलिकॉप्टरों का आना जाना बढ़ गया है। गलवान घाटी में भारत के साथ हुई हिंसक झड़प में भारी संख्‍या में चीनी सैनिक भी हताहत हुए हैं और हेलिकॉप्टरों की मदद से उन्हें ले जाया जा रहा है।

भाजपा विधायक मदन मोहन दत्ता का निधन

ओडिशा में बालासोर (सदर) के भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) विधायक मदन मोहन दत्ता का निधन हो गया है। वह 61 साल के थे। मिली जानकारी के अनुसार, विधायक मदन मोहन दत्ता का निधन भुवनेश्वर के एक अस्पताल में कार्डियक अरेस्ट की वजह से हुआ है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बीजेपी विधायक मदन मोहन दत्ता लीवर से संबंधित बीमारी से पीड़ित थे। उनका इलाज एम्स अस्पताल में इलाज चल रहा था। जनप्रिय एवं जमीनी स्तर के नेता दत्ता साल 2019 में बालेश्वर सदर विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर विधायक चुने गए थे। मदन मोहन दत्ता इन इससे पहले रेमुणा ब्लाक अध्यक्ष और जिला परिषद उपाध्यक्ष का दायित्व भी निभा चुके थे।

हमें भारत के बहादुरों की बहादुरी और साहस पर गर्व

राजनाथ सिंह ने कहा कि गलवान में सैनिकों की क्षति परेशान करने वाली और दर्दनाक है। हमारे सैनिकों ने अनुकरणीय साहस और वीरता का प्रदर्शन किया और भारतीय सेना की सर्वोच्च परंपराओं में अपने जीवन का बलिदान दिया। देश उनकी बहादुरी और बलिदान को कभी नहीं भूलेगा। मेरी संवेदनाएं जान गंवाने वाले सैनिकों के परिवारों के साथ हैं। राष्ट्र इस कठिन घड़ी में उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। हमें भारत के बहादुरों की बहादुरी और साहस पर गर्व है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि क्या गलत हुआ

शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि सीमा पर जो कुछ भी हुआ उसके लिए हम जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी या राहुल गांधी को जिम्मेदार नहीं ठहरा सकते हैं। हम सभी 20 जवानों की शहादत के लिए जिम्मेदार हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जो भी फैसला लेंगे, सभी पार्टियां उनका समर्थन करेंगी। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बताना चाहिए कि क्या गलत हुआ है।

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर साधा निशाना

राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि आखिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के साथ हुई हिंसा के बाद क्यों चुप हैं। वह कुछ बोल क्यों नहीं रहे हैं। इससे पहले राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि चीन के साथ झड़प में शहीद हुए जवानों के प्रति उनकी संवेदना व्यक्त करते हैं साथ ही कहा कि इस मुश्किल की घड़ी में हम जवानों के साथ खड़े हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि कोई भी शब्द उस भावना को व्यक्त नहीं कर सकता जो मैं उन सेना के अधिकारी और जवानों के लिए महसूस कर रहा हूं जिन्होंने देश के लिए जान दे दी। उनके सभी प्रियजनों के प्रति मेरी संवेदना है। हम इस मुश्किल समय में आपके साथ खड़े हैं।

क्यों हुई भारत और चीन सेना के बीच झड़प

भारत चीन सैनिकों के बीच लद्दाक की गलवान घाटी में बीते 15 जून की रात को हिंसक झड़प हुई। इसमें दोनों देशों के सैनिक शहीद हुए जहां एक तरफ भारतीय जवान 20 भारतीय जवान शहीद हो गए। तो वहीं चीन के 40 सैनिक भी घायल हुए हैं और 5 मारे गए हैं। भारत-चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा पर यह पूरी हिंसक वारदात की इस जगह के बारे में जाना चाहता है कि आखिर पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी में यह जगह कहां पर है। जहां भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई है। गलवान नदी के पास होने के कारण इस इलाके को गलवान घाटी कहा जाता है। लद्दाख की राजधानी लेह से धारबुग होते हुए दौलत बेग ओल्डी जाने के लिए कम से कम 323 किलोमीटर लंबी सड़क पर निर्माण कार्य जारी है। जिसका बीते दिनों रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ऑनलाइन उद्घाटन किया था। इसी सड़क पर भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई।

जवानों का बलिदान नहीं जायेगा व्यर्थ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड 19 को लेकर बुधवार को 15 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्यमंत्री के साथ बैठक में भारत और चीन के सैनिकों के बीच पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुई झड़प को लेकर बयान दिया है। बीजेपी ट्विटर के मुताबिक, इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत शांति चाहता है, लेकिन भारत उकसाने पर हर हाल में यथोचित जवाब देने में सक्षम है। देश को इस बात का गर्व होगा कि हमारे शहीद वीर जवान मारते-मारते मरे हैं। हम कभी किसी को भी उकसाते नहीं हैं, लेकिन हम अपने देश की अखंडता और संप्रभुता के साथ समझौता भी नहीं करते हैं। जब भी समय आया है, हमने देश की अखंडता और संप्रभुता की रक्षा करने में अपनी शक्ति का प्रदर्शन किया है, अपनी क्षमताओं को साबित किया है।

Next Story
Top