Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Happy New Year 2021 Guidelines: इन पांच राज्यों में लगी नए साल के जश्न पर रोक, कहीं पर नाइट कर्फ्यू जारी

Happy New Year 2021 Guidelines: एक जनवरी 2021 को पूरी दुनिया में नए साल का जश्न मनाने की तैयारी चल रही है। तो कई राज्यों में सरकार ने कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं।

Happy New Year 2021 Guidelines: इन पांच राज्यों में लगी नए साल के जश्न पर रोक, कहीं पर नाइट कर्फ्यू जारी
X

Happy New Year 2021 Guidelines

Happy New Year 2021 Guidelines: एक जनवरी 2021 को पूरी दुनिया में नए साल का जश्न मनाने की तैयारी चल रही है। तो कई राज्यों में सरकार ने कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं। कोरोना महामारी के बाद अब नया स्ट्रेन मिलने के बाद अलर्ट जारी कर दिया गया है। इसी बीच भारत के 5 राज्यों में नए साल का जश्न फीका रहेगा।

इन पांच राज्यों में लगा प्रतिबंध

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, राजस्थान और उत्तराखंड में नए साल के जश्न को लेकर सरकार ने रोक लगा दी है। अभी भी इनमें से कई राजयों में नाइट कर्फ्यू जारी है, तो कहीं पर कई प्रतिबंधों को दोबारा लागू कर दिया गया है। इसी बीच सरकार ने लोगों पर प्रतिबंध लगाते हुए घरों पर ही रहने की सलाह दी है।

कोरोना के नए वैरिएंट के बाद ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में सरकार दोबारा से एक्टिव हो गई हैं। यहां पर कई तरह की रोक लगा दी गई है। ब्रिटेन में इमरजेंसी लॉकडाउन जारी है। महाराष्ट्र के मुंबई समेत कई बड़े शहरों में नए साल के जश्न पर रोक लगा दी गई है। सभी शहरों में रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू जारी है।

दूसरी तरफ तमिलनाडु में सरकार ने 31 दिसंबर तक नए साल के जश्न को देखते हुए रेस्टोरेंट, पब, क्लब और हुक्का बार पर रोक लगा दी है। लेकिन बीते दिनों सरकार ने नाइट कर्फ्यू पहले ही हटा दिया था। सभी को कोविड-19 गाइडलाइंस का पालन करना होगा।

इसके अलावा कर्नाटक में भी सरकार ने 23 दिसंबर से लेकर 2 जनवरी 2021 तक रात में बंद करने के आदेश दे दिए हैं। क्‍लबों, पबों, रेस्‍टोरेंट नाइट कर्फ्यू की वजह से बंद रहेंगे। वहीं राजस्थान के कई शहरों में 31 दिसंबर और 1 जनवरी के लिए नाइट कर्फ्यू जारी है। रात के 8 बजे से सुबह के 6 बजे तक सब बंद रहेगा। उत्तराखंड में न्‍यू ईयर पार्टी मनाने पर रोक लगा दी गई है। यहां भी रेस्टोरेंट, होटल और पब बंद रहेंगे। ये आदेश शहरी इलाकों के लिए हैं।

और पढ़ें
Next Story