logo
Breaking

लोकसभा चुनाव से गायब है 'ग्लैमर', नेताओं की डिमांड बढ़ी

11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव का पहला चरण पूरा हो गया है। दूसरे चरण के लिए 18 को वोटिंग होगी, लेकिन इस बार एक खास बात यह है कि किसी दल के समर्थन में वोट मांगने के लिए पिछले सालों के मुकाबले 'ग्लैमर' लगभग गायब है। फिल्मी सितारे चुनावी सीन में नहीं हैं और सियासी हस्तियों को ही बुलाने पर कैंडिडेट पर ज्यादा जोर है।

लोकसभा चुनाव से गायब है

11 अप्रैल को लोकसभा चुनाव का पहला चरण पूरा हो गया है। दूसरे चरण के लिए 18 को वोटिंग होगी, लेकिन इस बार एक खास बात यह है कि किसी दल के समर्थन में वोट मांगने के लिए पिछले सालों के मुकाबले 'ग्लैमर' लगभग गायब है। फिल्मी सितारे चुनावी सीन में नहीं हैं और सियासी हस्तियों को ही बुलाने पर कैंडिडेट पर ज्यादा जोर है। लोगों के बीच में पीएम मोदी, मायावती, अखिलेश, राहुल और प्रियंका गांधी, जयंत चौधरी पहली पसंद बने हुए हैं।

पहले चुनावों में फिल्मी सितारों की रहती थी धूम, हर पार्टी में रहते थे मौजूद

2004, 2009 और 2014 के लोकसभा चुनाव में वेस्ट यूपी में सभी दलों के कैंडिडेट के पक्ष में चुनाव में तड़का लगाने के लिए कई फिल्म स्टार मे दस्तक दी थी। वेस्ट यूपी में सनी देओल, रजा मुराद, डिंपल कपाड़िया, महिमा चौधरी, बोनी कपूर, असरानी, मोनिका बेदी, जयाप्रदा, नगमा, जूही बब्बर, प्रतीक बब्बर सहित एक लंबी फेहरिश्त प्रचार में उतरने वालों की थी। 2014 में नगमा मेरठ हापुड़ लोकसभा सीट से कांग्रेस के कैंडिडेट थीं। जयाप्रदा बिजनौर से आरएलडी की कैंडिडेट थीं और राजबब्बर खुद गाजियाबाद से चुनाव लड़ रहे थे।

पैसे लेकर प्रचार करने के स्टिंग का असर!

इस लोकसभा चुनाव में राजबब्बर कांग्रेस से फतेहपुर सीकरी, बीजेपी से जयप्रदा रामपुर से और हेमा मालिनी मथुरा से चुनाव मैदान में हैं। इस बार नगमा चुनाव नहीं लड़ रही हैं। इसके अलावा भी वेस्ट यूपी की किसी सीट पर प्रचार में ग्लैमर का तड़गा नहीं लगा है। माना जा रहा है कि चुनाव से पहले फिल्मी सितारों का पैसे लेकर प्रचार करने का स्टिंग होने का यह असर है।

फिल्म अभिनेता रजा मुराद के मुताबिक उनको भी पैसे देकर बीजेपी के पक्ष में वोट देने की अपील करने का ऑफर आया था, लेकिन उन्होंने कथित तौर पर कह दिया था कि कलाकार कला दिखाने के पैसे लेते हैं, जमीर नहीं बेचते। जिस दल के लिए अच्छा लगेगा उसके लिए वोट देंगे। हालांकि फतेहपुर सीकरी में राज बब्बर के लिए उनके बेटे प्रतीक बब्बर और बेटी जूही बब्बर फैमिली मेंबर की हैसियत से जरूर वोट मांगने पहुंचे हैं।

लोगों को काम पर भरोसा, दिखावे पर नहीं

कांग्रेस की एआईसीसी के सदस्य और उत्तर प्रदेश के उपाध्यक्ष डॉ. युसुफ कुरैशी का कहना है कि राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की जनता में स्वीकार्यता के चलते हमें किसी फिल्मी हस्ती की बैशाखी की जरूरत नहीं हैं। वहीं बीएसपी के जोन कोऑर्डिनेटर दिनेश काजीपुर का कहना है कि हमारी एक ही सर्वमान्य नेता मायावती हैं। बीएसपी को किसी फिल्म स्टार की जरूरत नहीं हैं।

एसपी के प्रदेश सचिव चौधरी दिनेश गुर्जर का कहना है कि जनता अब काम पर विश्वास करती है, दिखावे पर नहीं। एसपी नेता अखिलेश यादव का काम बोलता हैं। फिल्मी हस्ती मौजूदा वक्त में वोट दिलाने में कारगर साबित नहीं हो रही हैं।

बीजेपी के वेस्ट यूपी के प्रवक्ता गजेंद्र शर्मा का कहना है कि पीएम मोदी, अध्यक्ष अमित शाह और सीएम योगी के लिए हर सीट से बुलावा और चाह है। जो क्रेज हमारे इन नेताओं का है वह किसी फिल्मी हस्ती में नहीं दिखता।

Share it
Top