Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Gadchiroli Naxal Attack : गढ़चिरौली नक्सली हमले में 15 कमांडो शहीद

सी-60 के जवान जब कुरखेड़ा-कोरची मार्ग से गुजर रहे थे, तभी नक्सली वहां घात लगाए बैठे थे। जैसे ही जवानों का वाहन वहां से गुजरा। घने जंगलों के बीच आईईडी ब्लास्ट किया।

Gadchiroli Naxal Attack : गढ़चिरौली नक्सली हमले में 15 कमांडो शहीद

राजनांदगांव जिले से सटे महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में नक्सलियों ने बड़ा हमला कर दिया। आईईडी ब्लास्ट में सी-60 के 15 कमांडो शहीद हो गए। नक्सलियों द्वारा किए गए ब्लास्ट में क्विक रिस्पॉन्स टीम को ले जा रहा वाहन चपेट में आ गया था। हमले में निजी बस का ड्राइवर भी मारा गया है। इससे पहले मंगलवार देर रात इसी इलाके में नक्सलियों ने रोड निर्माण में लगे 27वाहनों को आग लगा दी थी।

वहीं आज ही गढ़चिरौली जिले में कुरखेड़ा तहसील के दादापुरा गांव में नक्सलियों ने 36 वाहनों को आग लगा दी थी। इसके बाद क्विक रिस्पॉन्स टीम के कमांडो घटनास्थल के लिए रवाना हुए थे। ये कमांडो नक्सलियों का पीछा करते हुए जंबुखेड़ा गांव की एक पुलिया पर पहुंचे, जहां नक्सलियों ने विस्फोट के जरिए जवानों पर हमला कर दिया। गढ़चिरौली में यह धमाका घने जंगलों के बीच हुआ है।

धमाके के बाद पुलिस और नक्सलियों के बीच फायरिंग भी हुई। अभी इलाके में तलाशी अभियान चलाया गया। कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र में शांति पूर्ण और बढ़-चढ़कर हो रहे मतदान से नक्सली भड़के हुए थे, जिसके चलते उन्होंने आईईडी ब्लास्ट को अंजाम दिया। महाराष्ट्र राज्य स्थापना दिवस एक मई को नक्सलियों ने गढ़चिरौली जिले में भयंकर वारदात को अंजाम देकर अपनी दहशत फैलाने का काम किया है।

नक्सलियों ने गढ़चिरौली क्षेत्र में आधी रात से अगली सुबह तक जमकर उत्पात मचाया। गढ़चिरौली जिला पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार कुरखेड़ा तहसील अंतर्गत दादापुर के पास मंगलवार रात सशस्त्र नक्सलियों ने सड़क निर्माण में लगी 2 जेसीबी, 11 टप्पिर, डामर प्लांट, मिक्चर मशीन एवं छोटे वाहनों को आग लगा दी।

धमाके से उड़े वाहन के परखच्चे

सी-60 के जवान जब कुरखेड़ा-कोरची मार्ग से गुजर रहे थे, तभी नक्सली वहां घात लगाए बैठे थे। जैसे ही जवानों का वाहन वहां से गुजरा। घने जंगलों के बीच आईईडी ब्लास्ट किया। यह धमाका इतना भयंकर था कि वाहन के परखच्चे उड़ गए। इसी घटना में 15 जवान शहीद हुए हैं। इस घटना के बाद पुलिस ने जंगल और सीमावर्ती इलाकों में सर्चिंग तेज कर दी है। वहीं आम लोगों में दहशत का माहौल निर्मित हो गया है।

दुर्ग की कंपनी बना रही थी सड़क

वारदात को अंजाम देने के बाद नक्सलियों ने घटनास्थल पर पर्चे भी फेके हैं। गढ़चिरौली जिले में राष्ट्रीय राजमार्ग क्रमांक 136 का निर्माण कार्य चल रहा है। सड़क का निर्माण दुर्ग की अमर इंफास्ट्रक्चर लिमिटेड द्वारा किया जा रहा था। दादापुर के पास कंपनी ने डामर प्लांट स्थापित किया था। इस कार्य में लगे वाहनों को नक्सलियों ने आग के हवाले किया है।

शहीद जवान सी-60 फोर्स के कमांडो

शहीद हुए जवान पुलिस की सी-60 फोर्स के कमांडो थे। इस फोर्स में 60 जवान होते हैं। इसका गठन 1992 में गढ़चिरौली के तत्कालीन एसपी केपी रघुवंशी ने किया था। इस फोर्स के कमांडो नक्सल विरोधी अभियानों के लिए ही प्रशिक्षित किए जाते हैं। ये गुरिल्ला युद्ध में माहिर होते हैं।

हमला खुफिया चूक का परिणाम नहीं

महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक सुबोध कुमार जायसवाल ने कहा कि गढ़चिरौली में हुआ नक्सली हमला खुफिया चूक का परिणाम नहीं है। जायसवाल ने इसे सुरक्षा बल के लिए 'बड़ी क्षति' करार दिया है। उन्होंने कहा कि पुलिस नक्सलियों को माकूल जवाब देने के लिए तैयार है। उन्होंने कहा, मैं इसे खुफिया चूक नहीं कह सकता हूं। महाराष्ट्र की पुलिस इस तरह की गतिविधियों के खिलाफ सभी जरूरी कार्रवाई करेगी।

भूला नहीं जाएगा बलिदान : पीएम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि ऐसी हिंसा को अंजाम देने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुए इस घिनौने हमले की कड़ी निंदा करता हूं। मैं सभी शहीदों को सैल्यूट करता हूं। उनका बलिदान कभी भूला नहीं जाएगा।

राहुल ने व्यक्त की संवेदना

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शहीद के परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। गांधी ने ट्विटर पर कहा, महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में सुरक्षाकर्मियों पर हमले की खबर सुनकर मैं दुखी हूं। उन्होंने कहा, मैं उन लोगों के परिवारों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करता हूं जिन्होंने अपनी जान गंवाई है।

Share it
Top