Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

G-7 Summit: जर्मन चांसलर ओलाफ शोल्ज ने G-7 शिखर सम्मेलन में PM मोदी का स्वागत किया

जर्मन के चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ (German Chancellor Olaf Scholz) ने सोमवार को जी 7 शिखर सम्मेलन (G7 summit) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का स्वागत किया जहां दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के नेता यूक्रेन (Ukraine) पर रूसी आक्रमण, खाद्य सुरक्षा और आतंकवाद विरोधी सहित विभिन्न महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

G-7 Summit: जर्मन चांसलर ओलाफ शोल्ज ने G-7 शिखर सम्मेलन में PM मोदी का स्वागत किया
X

जर्मन के चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ (German Chancellor Olaf Scholz) ने सोमवार को जी 7 शिखर सम्मेलन (G7 summit) में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) का स्वागत किया जहां दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के नेता यूक्रेन (Ukraine) पर रूसी आक्रमण, खाद्य सुरक्षा और आतंकवाद विरोधी सहित विभिन्न महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी, जो G7 के शिखर सम्मेलन के लिए रविवार से दो दिवसीय यात्रा पर जर्मनी में हैं, जर्मन चांसलर ओलाफ शोल्ज़ ने श्लॉस इलमाउ (Schloss Ilmau) में जी-7 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का स्वागत किया। विदेश मंत्री के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया "एक न्यायपूर्ण दुनिया की ओर बढ़ने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं।" जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ ने श्लॉस इल्माऊ में जी-7 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया।

शिखर सम्मेलन की शुरू होने से पहले, प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन (US President Joe Biden) और कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो से हाथ मिलाया। ग्रुप फोटो के लिए सभी नेता जुटे हुए थे। वही इस सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ऊर्जा, खाद्य सुरक्षा, आतंकवाद विरोधी, पर्यावरण और लोकतंत्र जैसे मुद्दों पर समूह के नेताओं और सहयोगियों के साथ चर्चा करेंगे।

उन्होंने कहा, "मैं आज G7 शिखर सम्मेलन में भाग लूंगा, जिसमें हम विभिन्न महत्वपूर्ण वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करेंगे। G7 कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका का एक अंतर-सरकारी राजनीतिक समूह है। दुनिया के सात सबसे अमीर देशों के नेताओं के यूक्रेन संकट (Ukraine crisis) पर ध्यान केंद्रित करने की उम्मीद है, जिसने न केवल वैश्विक खाद्य और ऊर्जा संकट को बढ़ावा दिया है, बल्कि भू-राजनीतिक उथल-पुथल भी पैदा की है।

जर्मन चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ के निमंत्रण के बाद, मोदी दक्षिणी जर्मनी के स्कोल्ज़-इल्माऊ में अल्पाइन कैसल में जी 7 शिखर सम्मेलन में भाग ले रहे हैं। जर्मनी जी-7 के अध्यक्ष के रूप में शिखर सम्मेलन की मेजबानी कर रहा है। भारत के अलावा, जी-7 शिखर सम्मेलन (G7 summit) के मेजबान जर्मनी ने अर्जेंटीना, इंडोनेशिया, सेनेगल और दक्षिण अफ्रीका को भी अतिथि के रूप में आमंत्रित किया है।

और पढ़ें
Next Story