Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पिछले पांच सालों में हुए ये पांच बड़े आतंकी हमले, अनंतनाग भी शामिल

पठानकोट हमलाः 2 जनवरी 2016 की सुबह करीब साढ़े तीन बजे भारतीय सेना की वर्दी पहने छह बंदूकधारी ने उच्च सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए पठानकोट वायुसेना केंद्र की सीमा घुसे। हमलावर अपने साथ ग्रेनेड, 52 मिमि मोर्टार, एके राइफले और जीपीएस उपकरण ले आए थे। शुरुआती मुठभेड़ में चार आतंकी मार गिराए गए थे जबकि तीन सुरक्षाकर्मी भी शहीद हो गए। पूरे दिनभर दोनों ओर गोलियों की आवाजें गूंजती रही जो इस बात का इशारा कर रही थी कि आतंकी अभी भी मौजूद हैं। तीन अन्य सुरक्षाकर्मी जो बमों को हटाते हुए घायल हो गये थे, उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन वो सभी 2 जनवरी 2016 को शहीद हो गये। इसके बाद अगले दिन (3 जनवरी 2016) की सुबह फिर गोलियां चलने की आवाजें सुनी गईं, जिससे और अधिक हमलावरों के होने की आशंका बढ़ गई। एक मृत हमलावर के शरीर से बम हटाते वक्त हुए एक नये आईईडी धमाके से राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड के तीन जवान घायल हो गये। दोपहर तक पता लगा की दो और हमलावर अभी भी परिसर में छुपे हुए हो सकते थे। बाहरी सैन्य मदद पहुँचने के बाद सुरक्षा बलों ने आतंकियों के खिलाफ़ तलाशी अभियान 4 जनवरी को भी चालू रखा था। पाँचवे आतंकी को उस दिन बाद में मार गिराया गया। इस पूरी घटना में 7 सुरक्षाकर्मी शहीद हुए जबकि 20 अन्य घायल हुए थे।





Next Story
Share it
Top