Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Farmers Protest: विपक्षी दलों के शीर्ष पांच नेताओं ने राष्ट्रपति कोविंद से मिल किसानों की हक में की ये मांग

Farmers Protest: इस मुलाकात में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार समेत विपक्ष के 5 नेताओं ने राष्ट्रपति से मुलाकात की है। राष्ट्रपति से मिलने के बाद विपक्षी नेताओं ने नये कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की।

Farmers Protest: विपक्षी दलों के शीर्ष पांच नेताओं ने राष्ट्रपति कोविंद से मिल किसानों की हक में की ये मांग
X

 विपक्षी दलों के शीर्ष पांच नेताओं ने राष्ट्रपति कोविंद से मिल किसानों की हक में की ये मांग

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों को लेकर किसान संगठनों का आंदोलन जारी है। वहीं विपक्षी दलों ने भी कृषि कानूनों पर अपनी चिंताओं से अवगत कराने और इसे वापस लेने की मांग को लेकर विपक्षी दलों का एक प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिला। इस मुलाकात में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी, एनसीपी प्रमुख शरद पवार समेत विपक्ष के 5 नेताओं ने राष्ट्रपति से मुलाकात की है। राष्ट्रपति से मिलने के बाद विपक्षी नेताओं ने नये कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग की।

उन्होंने कहा कि केंद्र किसानों की बात नहीं सुन रही है। किसान संगठनों की मांगे जल्द से जल्द मांग पूरी होनी चाहिए। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि किसानों ने देश की नींव रखी है। वो दिन-रात काम करते हैं। ये कानून किसानों के हित में नहीं हैं। तीनों बिल संसद से बिना चर्चा के पास हुए। राहुल गांधी ने कहा कि किसानों की शक्ति के सामने कोई खड़ा नहीं हो सकता। हिंदुस्तान का किसान हटेगा नहीं, डरेगा नहीं।

जब तक कानून रद्द नहीं होते तब तक वे डटे रहेंगे। वहीं राहुल गांधी के बाद सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि हम सबने मिलकर राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपा है। हम कृषि कानूनों और बिजली संशोधन बिल को रद्द करने के लिए कह रहे हैं, जो बिना लोकतांत्रिक तरीके से पारित किए गए थे।

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा कि इस ठंड में देश के किसान सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। वे नाखुश हैं। सरकार की ड्यूटी है कि वो मामले का समाधान निकाले। आपको बता दें कि कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के तौर पर सरकार ने सितंबर में तीनों कृषि कानूनों को लागू किया था। सरकार ने कहा था कि इन कानूनों के बाद बिचौलिए की भूमिका खत्म हो जाएगी और किसानों को देश में कहीं पर भी अपने उत्पाद को बेचने की अनुमति होगी।

और पढ़ें
Next Story