Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कन्हैया लाल की बर्बर हत्या के बाद चश्मदीद का एक्सक्लूसिव खुलासा, बाहर से मदद के लिए नहीं आया कोई पड़ोसी

मंगलवार को दर्जी कन्हैयालाल की बड़े हत्यार से मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने सिर काटकर हत्या कर दी। जिन्होंने ऑनलाइन वीडियो बनाकर हत्या की जिम्मेदारी ली थी। इस वारदात के बाद दोनों आरोपियो को राजसमंद से कुछ ही घंटों के बाद गिरफ्तार कर लिया गया।

कन्हैया लाल की बर्बर हत्या के बाद चश्मदीद का एक्सक्लूसिव खुलासा, बाहर से मदद के लिए नहीं आया कोई पड़ोसी
X

मृतक कन्हैयालाल (फाइल फोटो)

राजस्थान (Rajasthan) के उदयपुर (Udaipur) में कन्हैयालाल (Kanhaiya Lal) की हत्या को लेकर एक गवाह ने इस दिन हुई पूरी वारदात की जानकारी दी। इतना ही नहीं उसने पड़ोस में मदद भी मांगी लेकिन कोई मदद के लिए नहीं आया। वहीं हत्या में इस्तेमाल चाकू जिस फैक्ट्री में बनाया गया था उसका भी पता चल गया है। पुलिस इसकी जांच कर रही है।

इंडिया टूडे से पहली बार बातचीत के दौरान एक चश्मदीद ने दर्जी कन्हैयालाल की सिर कलम कर हत्या करने वाले दोनों आरोपियों के बारे में बताया। गवाह, जो कन्हैयालाल की दुकान में काम करता था, उनसे बताया कि मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद 2611 नंबर की बाइक लेकर आए और दोनों ने दुकान के सामने बाइक खड़ी कर दी। जब वह दुकान के अंदर घुसे जहां कन्हैया लाल और उसका सहयोगी मौजूद थे। दोनों कपड़े सिलवाने के लिए आए थे। अचानक ही उन्होंने कन्हैयालाल पर हमला कर दिया।

उन्होंने बातचीत के दौरान बताया कि मैं चिल्लाया और लोगों से मदद मांगी लेकिन बाहर से कोई भी मदद के लिए नहीं आया। गवाह ने कहा कि कोई भी बाहर से हमारी अपील के बावजूद भी मदद के लिए नहीं आया। आरोपी उसी बाइक से फरार हो गए।

जानकारी के लिए बता दें कि बीते मंगलवार को दर्जी कन्हैयालाल की बड़े हत्यार से मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने सिर काटकर हत्या कर दी। जिन्होंने ऑनलाइन वीडियो बनाकर हत्या की जिम्मेदारी ली थी। इस वारदात के बाद दोनों आरोपियो को राजसमंद से कुछ ही घंटों के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। सूत्रों ने बताया कि दोनों आरोपियों का पाकिस्तान स्थित धार्मिक आंदोलन चलाने वाली दावत एक इस्लामी से संबंध था। पुलिस ने कार्रवाई करते हुए गैरकानून गतिविधि रोकथाम अधिनियम यानी यूएपीए के तहत मामला दर्ज किया और इस मामले की एनआईए के साथ राजस्थान पुलिस की विशेष अभियान समूह यानी एसओजी और आतंक विरोधी दस्ते की मदद से जांच की जा रही है। फिलहाल, पुलिस लगातार इस मामले पर अपडेट ले रही है। अभी भी राजस्थान में धारा 144 को पूरे महीने के लिए लागू किया गया है और इंटरनेट सेवा को कई भी बढ़ा दिया गया है, जिसकी मियाद शुक्रवार शाम तक खत्म हो रही थी।

और पढ़ें
Next Story