Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Election 2019 Phase 6 : छठा चरण भी रहा बंगाल के नाम, पिछड़ा उत्तर प्रदेश, जानें किस राज्य में हुई कितनी वोटिंग

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में रविवार को पश्चिम बंगाल में भाजपा उम्मीदवार भारती घोष पर हमला किया गया और उत्तरप्रदेश में भगवा दल के एक विधायक ने एक चुनाव अधिकारी की कथित तौर पर पिटाई की। इस चरण में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और छह राज्यों की 59 सीटों पर 63 फीसदी से अधिक वोट पड़े।

Election 2019 Phase 6 : छठा चरण भी रहा बंगाल के नाम,  पिछड़ा उत्तर प्रदेश, जानें किस राज्य में हुई कितनी वोटिंग

लोकसभा चुनाव के छठे चरण में रविवार को पश्चिम बंगाल में भाजपा उम्मीदवार भारती घोष पर हमला किया गया और उत्तरप्रदेश में भगवा दल के एक विधायक ने एक चुनाव अधिकारी की कथित तौर पर पिटाई की। इस चरण में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली और छह राज्यों की 59 सीटों पर 63 फीसदी से अधिक वोट पड़े।

इन 7 राज्यों में हुआ मतदान

इस चरण में उत्तर प्रदेश में 14 सीटों, हरियाणा की दस सीटों, बिहार, मध्यप्रदेश और पश्चिम बंगाल में आठ- आठ सीटों, झारखंड में चार सीटों और दिल्ली में सात सीटों पर वोट डाले गए। दिल्ली में वोट डालने वाली प्रमुख हस्तियों में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, संप्रग अध्यक्ष सोनिया गांधी, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज शामिल हैं।

आज के मतदान के साथ ही 543 लोकसभा क्षेत्रों में से करीब 89 फीसदी सीटों पर चुनाव संपन्न हो गए जबकि शेष 59 सीटों पर 19 मई को चुनाव होंगे। चुनाव आयोग ने विभिन्न राज्यों और दिल्ली में 63.48 फीसदी मतदान की घोषणा की, वहीं पश्चिम बंगाल में 80 फीसदी से अधिक वोट पड़े जबकि राष्ट्रीय राजधानी में महज 60.21 फीसदी मतदान हुआ। 2014 में यह 63.37 प्रतिशत था।

रात नौ बजे तक हुई वोटिंग

चुनाव आयोग ने कहा कि मतदान प्रतिशत रात नौ बजे दर्ज किया गया। यह आंकड़ा अंतिम नहीं है और इसमें वृद्धि हो सकती है क्योंकि कुछ स्थानों पर मतदान चल रहा है। इस चरण में जिन महत्वपूर्ण नेताओं एवं हस्तियों के भाग्य का फैसला होना है उनमें केंद्रीय मंत्री राधामोहन सिंह, हर्षवर्द्धन और मेनका गांधी, समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया और शीला दीक्षित, गौतम गंभीर, विजेन्द्र सिंह, दिनेश लाल यादव 'निरहुआ', रविकिशन और हंसराज हंस शामिल हैं।

2014 के मुकाबले दिल्ली में कम हुई वोटिंग

दिल्ली में इस बार मत प्रतिशत 2014 की तुलना में कम रहा। 2014 में राष्ट्रीय राजधानी में 65 फीसदी वोटिंग हुई थी। मतदाताओं को वोट देने के लिए जागरूक करने के प्रयास के बावजूद कम मतदान को लेकर चुनाव आयोग भी निराश है। दिल्ली में भाजपा, कांग्रेस और आप के बीच त्रिकोणीय मुकाबला था जिसमें कई हाईप्रोफाइल उम्मीदवार शामिल हैं। दिल्ली और अन्य स्थानों पर ईवीएम में खराबी की शिकायतें मिलीं। यद्यपि चुनाव अधिकारियों ने कहा कि ईवीएम मशीनों को बदल दिया गया।

बंगाल में सबसे ज्यादा वोटिंग

पश्चिम बंगाल में आठ सीटों पर 80.35 फीसदी मतदान दर्ज किया गया जहां घाटल सीट से भाजपा उम्मीदवार और पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष पर स्थानीय लोगों ने दो बार हमले किए जब उन्होंने अपने लोकसभा क्षेत्र में मतदान केंद्रों का दौरा करने का प्रयास किया। अधिकारियों ने कहा कि केशपुर इलाके में घोष ने जब भाजपा के एक एजेंट को मतदान केंद्र के अंदर ले जाने का प्रयास किया तो महिलाओं के एक समूह ने उन पर कथित तौर पर हमला किया। केशपुर के डोगाचिया में धांधली की शिकायत मिलने पर घोष जब वहां जा रही थीं तब उनके काफिले की ओर बम फेंके गये और पथराव किया गया।

अधिकारियों ने बताया कि उनका एक सुरक्षाकर्मी जख्मी हो गया और एक वाहन क्षतिग्रस्त हो गया। आरोप है कि तृणमूल कांग्रेस का एक कार्यकर्ता डोगाचिया में घोष के सुरक्षाकर्मी द्वारा चलाई गई गोली से घायल हो गया। इसके बाद उनके और उनके सुरक्षाकर्मी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई। भाजपा उम्मीदवार दिलीप घोष के खिलाफ कथित रूप से कानून-व्यवस्था मुद्दों को लेकर प्राथमिकी दर्ज की गई। अधिकारियों ने कहा कि हिंसा की घटनाओं में कम से कम 26 लोग घायल हुए हैं। केन्द्रीय बलों ने भी दो स्थानों पर हालात काबू में करने के लिये फायरिंग की।

यूपी में कम हुई वोटिंग

उत्तर प्रदेश के 14 लोकसभा क्षेत्रों में 54 फीसदी वोट पड़े। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और मेनका गांधी राज्य से चुनावी मैदान में हैं। राज्य में लोकसभा की 80 सीटें हैं। मेनका गांधी और उनके प्रतिद्वंद्वी बसपा के चंद्रभद्र सिंह का सुलतानपुर में आमना-सामना हुआ जहां भाजपा नेता ने उन्हें चेतावनी दी कि गुंडागर्दी नहीं चलेगी। सिंह ने उनके आरोपों से इंकार किया। भदोही में भाजपा विधायक दीनानाथ भास्कर और चार अन्य ने औराई क्षेत्र में एक निर्वाचन अधिकारी की कथित तौर पर पिटाई कर दी। उन्होंने निर्वाचन अधिकारी पर जानबूझकर मतदान प्रक्रिया धीमी करने का आरोप लगाया। चुनाव अधिकारियों ने इस मामले में रिपोर्ट मांगी है। आजमगढ़ में अखिलेश अपने पिता और सपा के संस्थापक मुलायम सिंह यादव की सीट बचाना चाहते हैं। उनका मुकाबला भोजपुरी फिल्म स्टार 'निरहुआ' से है जो भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं।

बिहार में वोटिंग

बिहार में आठ लोकसभा सीटों पर करीब 59.38 फीसदी मतदान हुआ। शिवहर लोकसभा क्षेत्र में चुनाव शुरू होने से पहले होमगार्ड के एक जवान द्वारा दुर्घटनावश गोली चल जाने से एक चुनाव अधिकारी की मौत हो गई। कुछ बूथों पर ईवीएम में खराबी की शिकायतें मिलीं।

हरियाणा में वोटिंग

हरियाणा में दस लोकसभा सीटों पर करीब 69.50 प्रतिशत मतदान हुआ और अधिकारियों ने कहा कि कोई अप्रिय घटना नहीं हुई और राज्य में चुनाव आमतौर पर शांतिपूर्ण रहा। रोहतक से कांग्रेस उम्मीदवार दीपेंद्र सिंह हुड्डा जो कि चौथी बार जीत हासिल करना चाहते हैं, ने हरियाणा के मंत्री एवं रोहतक से विधायक मनीष ग्रोवर पर मतदाताओं को धमकाने और मतदान केंद्रों के अंदर जबरन घुसने का आरोप लगाया। हालांकि, ग्रोवर ने इन आरोपों को खारिज कर दिया और दावा किया कि पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बेटे दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने हार के डर से निराधार आरोप लगाया है। हरियाणा में केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत सिंह और कृष्णपाल गुर्जर 223 उम्मीदवारों में शामिल हैं।

झारखंड और मध्य प्रदेश में वोटिंग

झारखंड में चार लोकसभा सीटों पर अनुमानत: 65.17 फीसदी मतदान हुआ और अधिकारियों ने बताया कि कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। मध्यप्रदेश में आठ लोकसभा सीटों पर 64.01 फीसदी मतदान हुआ। भोपाल में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का मुकाबला मालेगांव में विस्फोट की आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर से है जो भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रही हैं।

कांग्रेस महासचिव सिंधिया गुना सीट से फिर से चुनाव लड़ रहे हैं। उनका मुकाबला भाजपा के के. पी. यादव से है जो अपना पहला आम चुनाव लड़ रहे हैं। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उनके परिवार के सदस्यों ने विदिशा लोकसभा सीट पर अपने पैतृक गांव जैत में मतदान किया। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर जो ग्वालियर से सांसद हैं मुरैना से चुनाव लड़ रहे हैं।

10.17 करोड़ से अधिक मतदाता 979 उम्मीदवारों की चुनावी किस्मत का फैसला करेंगे। चुनाव आयोग ने चुनाव के सुचारू संचालन के लिए 1.13 लाख मतदान केंद्र बनाए थे।

Next Story
Share it
Top