Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

दिल्ली हिंसा : कभी ताहिर हुसैन ने भाजपा नेता कपिल मिश्रा के लिए किया था चुनाव प्रचार, दोस्ती की दी जाती थीं मिसालें

दिल्ली हिंसा को लेकर भाजपा नेता कपिल मिश्रा के बयान और आम आदमी पार्टी से सस्पेंड निगम पार्षद ताहिर हुसैन के वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे हैं।

खौफनाक हिंसा के बाद जिंदगी पटरी पर लौटनी हुई शुरूदिल्ली हिंसा मामला शांति की ओर

उत्तर पूर्वी दिल्ली में हिंसा को लेकर भाजपा नेता कपिल मिश्रा के बयान और आम आदमी पार्टी से सस्पेंड निगम पार्षद ताहिर हुसैन के वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहे हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये दोनों नेता कभी एक दूसरे के दोस्त हुआ करते थे। दोनों ने एक ही पार्टी के लिए चुनाव प्रचार किया और खुद ताहिर ने कपिल मिश्रा की मदद की थी।

कभी दोनों अच्छे दोस्त थे

कहते हैं राजनीति में कब आपका दोस्त दुश्मन और दुश्मन दोस्त बन जाए कुछ कहा नहीं जा सकता है। ऐसा ही अब हो रहा है। एक वक्त था जब करावल नगर विधानसभा सीट से कपिल मिश्रा को आम आदमी पार्टी ने टिकट दिया था और उस वक्त ताहिर हुसैन ने कपिल मिश्रा के लिए चुनाव प्रचार किया था। मिश्रा का दफ्तर हुसैन के मकान में था। इलाके के लोग कहते हैं कि विधानसभा चुनाव के दौरान हुसैन ने उनकी मदद की थी। लेकिन पार्टी बदलते ही दोनों की दोस्ती दुश्मनी में बदल गई।

कपिल मिश्रा का हुसैन पर ट्वीट

ताहिर हुसैन के वीडियो वायरल होने के बाद कपिल मिश्रा ने ट्वीट कर निशाना साधा। कपिल ने ट्वीट कर लिखा कि हत्यारा ताहिर हुसैन है। उसने आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा की ही नहीं अन्य लोगों की भी हत्या की है। वीडियो में ताहिर अपने घर की छत से उपद्रवियों को बढ़ावा दे रहे हैं। लाठी, पत्थर, गोलियां और पेट्रोल बम के साथ ताहिर हुसैन अन्य लड़कों के साथ दिख रहे हैं। कपिल ने संजय सिंह और अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा कि हुसैन के कॉल्स की डिटेल्स निकाली जाए तो इसमें इन दो नेताओं की भी भूमिका मिलेगी।

आप पार्टी से सस्पेंड पार्षद मोहम्मद ताहिर हुसैन मॉब को बढ़ावा देते हुए दिख रहे हैं। जिनके वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। दंगों के दौरान पेट्रोल बमों का जमकर इस्तेमाल किया गया। अंकित शर्मा की हत्या मामले में पुलिस ने ताहिर हुसैन के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। सभी आरोपों से इनकार करने वाले हुसैन को आप से निलंबित कर दिया।

हालांकि, आप प्रवक्ता प्रिंस सोनी ने 27 फरवरी को एक वीडियो ट्वीट किया। जिसमें दावा किया गया कि दंगों के दौरान हुसैन ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए पुलिस से अपील की थी। उन्होंने यह भी दावा किया कि गुंडे उनके घर में जबरन घुस आए थे।

Next Story
Top