Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

JNU हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस का खुलासा, आइशी घोष समेत 9 लोगों ने मचाया था उत्पात

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय में हुई हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जेएनयू में विंटर रजिस्ट्रेशन चल रहा है जिसका AISF, AISA, SFI और DSF के लोग विरोध कर रहे थे। जबकि ज्यादातर स्टूडेंट्स रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं।

दिल्ली पुलिस ने की पीसी, 3 से 5 जनवरी तक की हिंसा पर जानें अपडेटदिल्ली पुलिस

जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय में हुई हिंसा को लेकर दिल्ली पुलिस ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। जिसमें पुलिस ने 3 जनवरी से लेकर 5 जवनरी तक हुई हिंसा के दौरान का पूरा अपडेट दिया है। इस दौरान पुलिस ने बताया कि ये हिंसा SFI, AISA, AISF, DSF रजिस्ट्रेशन के खिलाफ थी।

दिल्ली पुलिस पीआरओ एमएस रंधावा ने कहा कि सर्वर रूम में छेड़छाड़ की गई। स्टाफ से धक्का-मुक्की की गई। जेएनयू 1 से 5 जनवरी के बीच रजिस्ट्रेशन का प्लान था। 4 छात्र संगठन इसके खिलाफ थे। जिसको लेकर हिंसा हुई। हिंसा की जांच को लेकर गलत सूचनाएं फैलाई जा रही हैं।

दिल्ली पुलिस ने कहा कि सामान्य तौर पर हम जांच पूरी होने के बाद ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हैं लेकिन अफवाहों की वजह से हमें पहले ही प्रेस कॉन्फ्रेंस करनी पड़ रही है। आइशी घोष समेत बताए 9 लोगों के नाम सामने आए हैं। जिसको लेकर आइशी घोष ने पुलिस की थ्योरी पर निशाना साधा है।

पुलिस ने जानकारी देते हुए कहा कि अब तक 8 संदिग्धों की पहचान हो गई है। जो जानकारी हम दे रहे हैं वो संवेदनशील हैं, संदिग्धों में जेएनयू का एक पूर्व छात्र शामिल है और इस मामले की जांच क्राइम ब्रांच कर रही है। हिंसा में पहचाने गए 8 छात्रों से जवाब मांगा।

आगे कहा कि लेफ्ट संगठनों के छात्रों ने पेरियार हॉस्टल में जाकर हिंसा की थी। जिसका वीडियो भी सामने आया है। स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन, ऑल इंडिया स्टूडेंट्स फ्रंट, डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ स्टूडेंट्स संगठन इसके खिलाफ थे।

Next Story
Top