Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

दुनिया में कोरोना के नए वेरिएंट से मचा हाहाकार, WHO ने बताया तेजी से फैलने वाला वायरस

कोरोना वायरस (coronavirus) के नए वेरिएंट (new variants) ने एक बार फिर दुनिया में कोहराम मचा दिया है। दूसरी लहर जैसी स्थिति दोबारा न हो इसके लिए भी तैयारी शुरू कर दी गई है।

दुनिया में कोरोना के नए वेरिएंट से मचा हाहाकार, WHO ने बताया तेजी से फैलने वाला वायरस
X

कोरोना वायरस (coronavirus) के नए वेरिएंट (new variants) ने एक बार फिर दुनिया में कोहराम मचा दिया है। दूसरी लहर जैसी स्थिति दोबारा न हो इसके लिए भी तैयारी शुरू कर दी गई है। इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (world health organization) की एक सलाहकार समिति ने दक्षिण अफ्रीका (south africa) में पहली बार सामने आए कोरोना वायरस (coronavirus) के नए रूप को 'बहुत तेजी से फैलने वाला और चिंताजनक बताया है और इसे ग्रीक वर्णमाला के तहत 'ओमाइक्रोन' नाम दिया है।

संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी (united nations health agency,) द्वारा शुक्रवार को की गई यह घोषणा पिछले कुछ महीनों में नए प्रकार के वायरस की कैटिगरी में पहली बार की गई है। इस श्रेणी में कोरोना वायरस (coronavirus) के डेल्टा वेरियंट (delta variant) को भी रखा गया था, जो दुनिया भर में फैल चुका था और भारत में दूसरी लहर को भी जिम्मेदार ठहराया गया था।

कोरोना वायरस इवोल्यूशन (corona virus evolution) पर तकनीकी सलाहकार समूह की एक आपात बैठक के बाद जारी एक बयान में, WHO ने कहा, "कोविड -19 महामारी विज्ञान में हानिकारक बदलाव का संकेत देने वाले सबूतों के आधार पर, TAG-VE ने WHO को सलाह दी है। कि इस संस्करण को चिंता के प्रकार (voc) के रूप में नामित किया जाना चाहिए और डब्ल्यूएचओ (who) ने बी.1.1529 को इस तरह नामित किया है।

इस वीओसी का नाम 'ओमाइक्रोन' (omicron) है। मौजूदा RS-CoV-2 PCR डायग्नोस्टिक टूल इस नए प्रकार के कोरोना का पता लगाने में सक्षम है। बयान में कहा गया है, "कई प्रयोगशालाओं ने संकेत दिया है कि व्यापक रूप से इस्तेमाल किए जाने वाले पीसीआर (pcr) परीक्षण के लिए, तीन लक्ष्यों में से एक का पता नहीं चला है (इसे एस जीन ड्रॉपआउट या एस जीन लक्ष्य विफलता कहा जाता है) और इसलिए इस परीक्षण को इस प्रकार के मार्कर के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

Next Story