Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Coronavirus : राष्ट्रीय मेडिकल अनुसंधान परिषद ने खोजी कोरोना वायरस की दवा, हाई रिस्क पर होगी इस्तेमाल

कोरोना वायरस की दवा को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये दवा हाई-रिस्क वाले मामलों में इलाज के लिए इस्तेमाल होगी।

Coronavirus: यूपी का वुहान शहर बन रहा मेरठ, एक दिन में आए 13 मामलेकोरोना वायरस

Coronavirus : भारत में कोरोनावायरस को लेकर कहा जा रहा है कि एक दवाई तैयार कर ली गई है जो इस वायरस को खत्म करने में कारगर साबित हो सकती है ऐसे में इस दवाई का इस्तेमाल एक तरह से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के द्वारा इस्तेमाल किया जाएगा।

दावा किया जा रहा है कि ये दवा हाई-रिस्क वाले मामलों में इलाज के लिए इस्तेमाल होगी। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आइसीएमआर) की ओर से कोरोना वायरस के लिए बनायी गयी नेशनल टास्क फोर्स ने दिया है।

बता दें कि इस दवा का इस्तेमाल मलेरिया के इलाज के लिए होता है डॉक्टर दावा किया है कि हेल्थ केयर वर्क्स को यह दवा संदिग्ध या कोविद 19 के मामले से पीड़ित लोगों को दी जा सकती है। ये दवा मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल की जाती है।

इसके अलावा यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ का मानना है कि मलेरिया की दवा का इस्तेमाल किया जा सकता है। कुछ लोगों के बारे में सुना है कि दवा की उच्च मांग है क्योंकि राष्ट्रपति ट्रंप इसे कोविद-19 के संभावित उपचार के रूप में बढ़ावा देते हैं।

हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन काम कर रही है। यह निर्धारित करने के लिए दवा परीक्षण चल रहे हैं कि क्या दवा मलेरिया के मरीज के अलावा कोविद19 जे मरीज़ को दी जा सकती है। भारत में अब तक कोरोना वायरस के 24 मरीज ठीक हो चुके हैं। इन सभी मरीजों को दी जाने ले दवाई एक तरह से मलेरिया की दी जा रही है।

वहीं पूरे विश्व में कोरोनावायरस से 14,000 से ज्यादा लोग मर चुके हैं और लाखों की संख्या में लोग इस संक्रमण से पीड़ित हैं। वहीं भारत में 471 लोग इस बीमारी के शिकार हैं। जिसमें से अब तक 9 मौतें हो चुकी है।

Next Story
Top