Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Coronavirus: महाराष्ट्र में शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की अब नहीं होगी जांच

Coronavirus: कोरोना वायरस दिन-प्रतिदिन तेजी से फैलता जा रहा है। जिसके कारण कोरोना वायरस पीड़ितों की संख्या में तेजी से वृद्धि आ रही है। इस संक्रमण को रोकने के लिए महाराष्ट्र सरकार ने ये फैसला लिया है।

Coronavirus: महाराष्ट्र में शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की अब नहीं होगी जांचCoronavirus: महाराष्ट्र में शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की अब नहीं होगी जांच

Coronavirus: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने ऐलान किया है कि शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की जांच न की जाए। यह ऐलान कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए किया गया है।

ये है मामला

महाराष्ट्र राजमार्ग पुलिस के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक विनय करगांवकर ने एक नोटिस जारी किया है कि महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोत्तरी हो रही है। जिसको ध्यान में रखते हुए सभी पुलिस कर्मचारियों को सावधानी बरतनी होगी।

इस सर्कुलर में कहा गया है कि ट्रैफिक पुलिस के सभी कर्मचारियों को शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की जांच को फिलहाल के लिए रोक देनी चाहिए। इसमें बताया गया है कि शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों की जांच के लिए ब्रेथ-एनालाइजर का उपयोग किया जाता है। जो इस समय खतरनाक है। साथ ही ये भी कहा गया है कि कोरोना वायरस के संकट से निकलने के बाद इस प्रक्रिया को फिर से शुरू किया जाएगा।

कैसे की जाती है जांच

नशे में गाड़ी चलाने वालों की जांच के लिए ब्रेथ-एनालाइजर को उक्त व्यक्ति के मुंह में रखना होता। जिससे ये पता लगता है कि उसने शराब पी है या नहीं। लेकिन कोरोना वायरस इन्हीं तरीकों से फैलता है। जिसका संक्रमण पुलिस कर्मियों में भी आ सकता है। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए यह स्टेप उठाना आवश्यक है।

गृहमंत्रालय के अधिकारी ने कहा ये बात

गृहमंत्रालय के अधिकारी ने कहा है कि शराब पीकर गाड़ी चलाने वालों से संबंधित मामले 2015 में 18,000 थे। लेकिन 2018 में ये मामले घटे और इनकी संख्या 11,700 हो गई। उन्होंने कहा कि ये संख्या अब भी ज्यादा है।

Next Story
Top