Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

आंखों के रंग के आधार पर हो रहा कोरोना वायरस, नए शोध में हुआ खुलासा

कोरोना वायरस का कहर जारी है। इसके नए-नए लक्षण सामने आ रहे हैं। इसी बीच एक अध्ययन में अब कोरोना वायरस के एक नए लक्षण का पता चला है। अगर आंखों का रंग बदल रहा है तो यह कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है।

आंखों के रंग के आधार पर हो रहा कोरोना वायरस, नए शोध में हुआ खुलासा
X
कोरोना वायरस (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस का कहर जारी है। इसके नए-नए लक्षण सामने आ रहे हैं। इसी बीच एक अध्ययन में अब कोरोना वायरस के एक नए लक्षण का पता चला है। अगर आंखों का रंग बदल रहा है तो यह कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है। कनाडा के नेत्र विज्ञान के एक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन ने यह बताया गया है कि आंख का रंग बदल और गुलाबी हो जाना कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है।

पीटीआई ने उस शोध के हवाले से एक रिपोर्ट में बताया है कि शोधकर्ताओं ने उल्लेख किया कि मार्च में एक 29 वर्षीय महिला रॉयल एलेक्जेंड्रा अस्पताल के नेत्र संस्थान अलबर्टा में इन्हीं लक्षणों के साथ पहुंची। उस महिला का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया।

कनाडा के अलबर्टा विश्वविद्यालय में ही सहायक प्रोफेसर कार्लोस सोलर्ट ने बताया कि इस मामले में सबसे दिलचस्प बात यह थी कि इस बीमारी का मुख्य कारण सांस लेने की तकलीफ नहीं बल्कि आंखो का रंग बदलना था और इसीलिए उस महिला का टेस्ट पॉजिटिव आया। उस महिला को बुखार और खांसी भी नहीं था।

कोरोना वायरस आंखों के आंसूओं से भी फैल रहा

अमेरिकी विशेषज्ञों से पहले चीनी शोधकर्ताओं द्वारा हुए एक शोध में भी यह माना गया कि कोरोना वायरस आंखों के आंसुओं द्वारा भी फैल रहा है। यह शोध बकायदा कोरोना वायरस के 38 रोगियों पर किया गया है और इसमें पाया गया है कि लगभग एक दर्जन संक्रमित व्यक्तियों की आंखें गुलाबी यानी पिंक कलर की हो गई हैं।

पहले कोरोना के दो लक्षण-खांसी और बुखार बताए गए थे

दरअसल, जब कोरोना वायरस चीन के वुहान से फैलना शुरू हुआ था तो इसके दो लक्षणों को मुख्य माना गया था। ये लक्षण थे सूखी खांसी और बुखार। बाद में वायरस का प्रकोप बढ़ने पर सांस लेने में दिक्कत जैसे लक्षण सामने आते चले गए। अब कोरोना वायरस के लक्षणों में एक नई चीज जुड़ गई है कि अगर आपकी आंखें गुलाबी हो रही हों तो भी आपमें कोरोना वायरस के लक्षण मिल सकते हैं। अब आंख का रंग गुलाबी हो जाना भी कोरोना के लक्षणों में शामिल है।

भारत में तेजी से बढ़ रही मरीजों की संख्या

भारत में कोरोना वायरस के नए मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। इसी को ध्यान में रखते हुए लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग बनाने की सलाह लगातार दी जा रही है। हालांकि आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने के लिए अनलॉक-1 लागू है। अभी तक इस वायरस से निजात पाने के लिए कोई वैक्सीन नहीं बनाई गई है। लेकिन इसके लक्षणों के आधार पर ही चिकित्सक इसके इलाज में दूसरी जरूरी दवाओं का उपयोग कर रहे हैं। हालांकि कई देशों में इसकी वैक्सीन बनाने का काम चल रहा है।

और पढ़ें
Next Story