Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus : जानें कैसे कापसहेड़ा में एक ही बिल्डिंग में रहने वाले 41 लोग हुए कोरोना पॉजिटिव, ये है सच

राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी बीच कापसहेड़ा में एक बिल्डिंग से 41 लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने को लेकर एक सच्चाई सामने आई है।

Coronavirus : जानें कैसे कापसहेड़ा में एक ही बिल्डिंग में रहने वाले 41 लोग हुए कोरोना पॉजिटिव, ये है सच
X

Coronavirus : राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी बीच कापसहेड़ा में एक बिल्डिंग से 41 लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने को लेकर एक सच्चाई सामने आई है। जिसमें बताया जा रहा है कि कापसहेड़ा की एक बिल्डिंग के अंदर रहने वाले 41 लोगों ने एक ही टॉयलेट यूज़ किया था। जिसकी वजह से उन्हें कोरोना हुआ है।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिणी पश्चिमी दिल्ली के जिला अधिकारी राहुल सिंह ने बताया कि कापासेड़ा की एक बिल्डिंग में जो लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए। वह सभी एक ही टॉयलेट यूज किया करते थे। उन्होंने बताया कि यह छोटी सी आबादी वाला इलाका है। जहां पर ज्यादा संख्या में लोग रहते हैं।

जानकारी के लिए बता दें कि कापसहेड़ा इलाके के ठेके वाली गली में एक बिल्डिंग है। जहां पर 41 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए । इसके पीछे की एक वजह बताई जा रही कि यह इलाका छोटी सी घनी आबादी वाला इलाका है और जहां पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हो पा रहा है।

डीएम ने जानकारी देते हुए कहा कि कापासेड़ा कि जिस बिल्डिंग से 41 कोरोना मरीज पाए गए। वहां करीब 200 लोग रहते हैं। इस छोटी सी बिल्डिंग के अंदर ज्यादा आबादी होने की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ना के बराबर रहा था। वहीं उन्होंने कहा कि जिन 41 लोगों का टेस्ट हुआ था। फिर से उनका टेस्ट किया जा रहा है और ऐसे में आशंका है कि जो लोग अभी बिल्डिंग के अंदर हैं। उनको भी कोरोना की संभावना है।

जानकारी के लिए बता दें कि कापासेड़ा मामले में देरी से रिपोर्ट आने के बाद दिल्ली सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए कहा कि अब कोरोना मरीजों की जांच, जो प्राइवेट लैब से की जाएगी। ताकि जल्दी से जल्दी रिपोर्ट आ सके। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में करोना की टेस्ट रिपोर्ट के लिए 24 से 36 घंटे का टाइम किया गया है और इसके अलावा नोएडा में भी टेस्टिंग के लिए रिपोर्ट भेजी जाएंगी।

ताकि जल्दी से जल्दी मरीजों का पता लगा जा सके और इलाकों में और कड़े नियम लागू किया जा सके। यहां के 95 लोगों के सैंपल 20 अप्रैल को और 80 लोगों के सैंपल 21 अप्रैल को नोएडा की एन आई बी लैब में कोरोना की जांच के लिए भेजे गए।

Next Story