Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

भारत में पांच मिनट के भीतर होगी कोरोना की जांच, 100 रुपये आएगा खर्च

शोध संस्थान वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) ने एक अच्छी खबर दी है कि कोराना के परीक्षण के लिए एक पेपर किट जल्द तैयार हो जाएगा, जो न केवल किफायती होगी बल्कि 5 मिनट में ही वायरस की पहचान भी कर लेगा।

भारत में पांच मिनट के भीतर होगी कोरोना की जांच, 100 रुपये आएगा खर्च
X
कोरोना वायरस (फाइल फोटो)

वैज्ञानिक कोरोना से लोगों को निजात दिलाने के वैज्ञानिक दिन-रात अनुसंधान में जुटे हुए हैं। देश भर के चिकित्साकर्मी व पैरा मेडिकल स्टॉफ मरीजों के इलाज में लगा हुआ है। वहीं देश का शीर्ष शोध संस्थान वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) ने एक अच्छी खबर दी है कि कोराना के परीक्षण के लिए एक पेपर किट जल्द तैयार हो जाएगा, जो न केवल किफायती होगी बल्कि 5 मिनट में ही वायरस की पहचान भी कर लेगा।

सीएसआईआर के महानिदेशक शेखर सी मांडे ने बताया कि दिल्ली स्थित प्रयोगशाला इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी के वैज्ञानिक जल्द ही एक ऐसा पेपर जांच किट तैयार कर लेंगे,जिससे महज 5 से 10 मिनट के भीतर किसी भी संक्रमित व्यक्ति में कोरोना वायरस का पता लगाया जा सकेगा। उन्होंने कहा कि इसमें सबसे बड़ी बात यह होगी कि पूरी जांच प्रक्रिया की लागत महज 100 रुपए ही होगी। साथ इस किट से घर या कहीं भी जांच की जा सकेगी। उन्होंने कहा कि इस महामारी से निपटने के लिए संस्थान पांच प्रमुख उपायों पर काम कर रहा है।

पांच प्रमुख उपाय

1. जहां-जहां बीमारी फैली हुई है, उस क्षेत्र में स्थित प्रयोगशालाएं लगातार इसका मॉलीक्यूल सर्विलांस कर रही हैं, ताकि इसके खतरे, प्रभाव व प्रकृति को समझा जा सके।

2. दूसरे किफायती जांच किट बनाने के लिए वैज्ञानिक रात-दिन काम कर रहे हैं।

3. तीसरे इसके उपचार के लिए दवा बनाने की भी कोशिश हो रही है।

4.चौथे अस्पताल व निजी सुरक्षा उपकरण बनाया जा रहा है।

5. पांचवें देश के हर हिस्से में चिकित्सकीय उपकरणों की आपूर्ति सुनिश्चित हो सके इसके लिए प्रयास किया जा रहा है।

--

इधर, 20 रेलमार्गो पर विशेष पार्सल ट्रेनें

भारतीय रेलवे ने कोरोना वायरस संकट के कारण संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान छोटे पार्सल आकारों में आवश्यक वस्तुओं की ढुलाई के लिए 20 रेलमार्गों पर विशेष पार्सल ट्रेनें चलाने की योजना तैयार की है। फिलहाल आठ रेलमार्गो पर पार्सल ट्रेनें शुरू कर दी गई हैं। रेल मंत्रालय ने सोमवार को यह जानकारी देते हुए बताया कि देश में कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के कारण आम जनता के लिए देश के एक कोने से दूसरे कोने तक आवश्यक सामग्री पहुंचाने के लिए भारतीय रेल ने आठ रेल मार्गो पर विशेष पार्सल ट्रेनें शुरू करने के बाद ऐसे ही 20 रेलमार्गों पर ऐसी ही व्यवस्था कराने की योजना तैयार की है। रेलवे ने उम्मीद जताई है कि ये पार्सल ट्रेने ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। देशभर में बड़े पैमाने पर त्वरित परिवहन के रूप में इन विशेष पार्सल एक्सप्रेस ट्रेनें के जरिए देशभर में दवाओं, चिकित्सा उपकरणों, मास्क, खाद्य पदार्थों के अलावा डेयरी उत्पाद, सब्जी-फल, किराने का सामान, खाद्य तेल और अन्य आवश्यक सामानों को पहुंचाया जा रहा है। इस दिशा में भारतीय रेलवे ने रेलवे पार्सल वैन को जरूरतमंद ई-वाणिज्य संस्थाओं और राज्य सरकारों सहित अन्य ग्राहकों के लिए त्वरित माल परिवहन के लिए उपलब्ध कराया है ताकि इस तरह के माल का परिवहन किया जा सके।

Next Story