Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना वायरस का आरटी-पीसीआर टेस्ट होगा सिर्फ 500 रुपये में, एम्स ने तैयार किया टेस्ट का नया तरीका

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर के माइक्रोबायलॉजी विभाग ने कोविड-19 के लिए आरटी-पीसीआर का नया टेस्ट तैयार किया है, जिसके अंतर्गत अब 1.45 घंटे में ही कंफर्म रिजल्ट मिल सकता है। वर्तमान में जांच की प्रक्रिया पूरी करने में लगभग छह घंटे का वक्त लगता है।

कोरोना वायरस का आरटी-पीसीआर टेस्ट होगा सिर्फ 500 रुपये में, एम्स ने तैयार किया टेस्ट का नया तरीका
X

भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान रायपुर के माइक्रोबायलॉजी विभाग ने कोविड-19 के लिए आरटी-पीसीआर का नया टेस्ट तैयार किया है, जिसके अंतर्गत अब 1.45 घंटे में ही कंफर्म रिजल्ट मिल सकता है। वर्तमान में जांच की प्रक्रिया पूरी करने में लगभग छह घंटे का वक्त लगता है। इसके साथ ही टेस्ट की लागत में भी काफी कमी आएगी और यह मात्र 500 रुपए में संभव है, जिस पर वर्तमान में लगभग दस हजार रुपए खर्च होते हैं।

निदेशक डा. नितिन एम. नागरकर ने बताया कि माइक्रोबायलॉजी विभाग के चिकित्सकों और वैज्ञानिकों ने आरटी-पीसीआर की नई विधि तैयार की है, जिसमें सिंगल ट्यूब रिएक्शन टेस्ट की मदद से कुछ समय में ही कोरोना वायरस की पहचान की जा सकती है। इसके अंतर्गत सार्स कोविड-2 के आरडीआरपी और एन. जीन और आरएनएएसई पी. जीन की मदद से आसानी से पहचाना जा सकता है।

उन्होंने बताया कि यह टेस्ट स्क्रीनिंग और कंफर्म टेस्ट में एक साथ प्रयोग किया जा सकता है। इसकी मदद से 94 सैंपल एक साथ टेस्ट किए जा सकते हैं। इसकी लागत लगभग 500 रुपए प्रति टेस्ट है। टेस्ट को विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. संजय सिंह नेगी और रिसर्च साइंटिस्ट कुलदीप शर्मा ने चंडीगढ़ स्थित आईएमटेक के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. कृष्ण गोपाल के साथ तैयार किया है।

उनकी इस उपलब्धि पर विभागाध्यक्ष डॉ. पद्मा दास और पीआई डॉ. अनुदिता भार्गव ने उन्हें बधाई दी है। उक्त टेस्ट को अनुमति के लिए आईसीएमआर के पास भेजा गया है, ताकि इसका उपयोग कोविड-19 की पहचान के लिए किया जा सके। टेस्ट की इस प्रक्रिया को अनुमति मिल जाती है तो इसके जरिए सर्विलांस और ज्यादा संख्या में जांच संभव हो सकेगी।

Next Story