Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Coronavirus: कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए सामने आया RSS, प्लाज्मा डोनेशन से अंतिम संस्कार तक में कर रहा सहयोग

Coronavirus: आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने इस अभियान की शुरूआत की थी। उन्होंने कहा था कि कोरोना काल में जरूरतमंदों की सहायता करना हमारा फर्ज है।

कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए सामने आया RSS, प्लाज्मा डोनेशन से अंतिम संस्कार तक में कर रहा सहयोग
X
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघचालक मोहन भागवत (फाइल)

Coronavirus: कोरोना पीड़ितों की मदद करने के लिए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ सामने आया है। जानकारी मिली है कि आरएसएस प्लाज्मा डोनेशन से लेकर अंतिम संस्कार तक के कार्यों में अपना महत्वपूर्ण सहयोग दे रहा है। इसके लिए दल के कार्यकर्ता दिन-रात लोगों की मदद में जुटे दिखाई पड़ रहे हैं।

प्रवासी मजदूरों का भी कर रहे सहयोग

सूत्रों के मुताबिक, आरएसएस ने बिहार एवं अन्य राज्यों के प्रवासी मजदूरों की भी काफी मदद कर रहे हैं। रहने-खाने से लेकर इलाज तक में दल के कार्यकर्ता मजदूरों की भरपूर सहायता कर रहे हैं।

फूड पैकेट्स का भी किया वितरण

आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, केरल एवं देश के कई हिस्सों में अपनी अपना योगदान दिया है। उन्होंने फूड पैकेट्स, मास्क, सैनेटाइजर, ऑनलाइन क्लासेज के लिए टीवी सेट जैसी चीजों का वितरण कर लोगों की जरूरतों को भी पूरा किया है।

आरएसएस सेवा विभाग के प्रभारी पराग अभयंकर ने कहा है कि हमने लॉकडाउन के दौरान 4.66 करोड़ फूड पैकेट्स बांटे। इसके अलावा 44.86 लाख प्रवासी मजदूरों की भी मदद की। उन्होंने कहा कि अब हमारा प्रयास है कि जो प्रवासी मजदूर लॉकडाउन के बाद बेरोजगार हो गए हैं, उन्हें नौकरी दिलाने में भी सहायता करें।

मोहन भागवत ने शुरू किया था अभियान

बता दें कि आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने इस अभियान की शुरूआत की थी। उन्होंने कहा था कि कोरोना काल में जरूरतमंदों की सहायता करना हमारा फर्ज है। उन्होंने कहा कि इस बीच 92 हजार राहत केंद्र, 483 मेडिसिन डिस्ट्रिब्यूशन सेंटर और 60 हजार स्वयंसेवकों ने रक्त दान किया। साथ ही 73.8 लाख राशन किट भी बांटे गए। इस दौरान कई कार्यकर्ताओं को कोरोना संक्रमण से गुजरना पड़ा।

उन्होंने कहा कि इस बीच ज्वॉइंट पब्लिसिटी चीफ सुनील अंबेरकर भी कोरोना पॉजिटिव हो गए और चार कार्यकर्ताओं की मौत भी हो गई। लेकिन हमारी हिम्मत और समाज सेवा के जुनून को कमजोर नहीं किया जा सका।

Next Story