Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बड़ी खबर: कोरोना महामारी का भारत की अर्थव्यवस्था पर दिखा असर, जीडीपी ग्रोथ में 7.3 फीसदी की कमी आई

वित्तीय वर्ष 2020-21 में भारत की जीडीपी 7.3 फीस दी की गिरावट दर्ज की गई है। बीते साल वित्तीय वर्ष की चौथी तिमाही में जीडीपी 1.6 फीसदी वृद्धि देखी गई थी।

बड़ी खबर: कोरोना महामारी का भारत की अर्थव्यवस्था पर दिखा असर, जीडीपी ग्रोथ में 7.3 फीसदी की कमी आई
X

कोरोना महामारी के दौरान भारत की अर्थव्यवस्था बीते चार दशकों में सबसे कम दर्ज की गई है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में भारत की जीडीपी 7.3 फीस दी की गिरावट दर्ज की गई है। बीते साल वित्तीय वर्ष की चौथी तिमाही में जीडीपी 1.6 फीसदी वृद्धि देखी गई थी। ऐसे में संकेत हैं कि कोरोना की दूसरी लेने से पहले देश की अर्थव्यवस्था रिकवरी के रास्ते पर थी।

वित्त वर्ष 2019-20 में 4 फीसदी जीडीपी ग्रोथ

एक रिपोर्ट के मुताबिक, भारत की अर्थव्यवस्था वित्त वर्ष 2020-21 में गिरावट की उम्मीद पहले ही लगाई गई थी। पिछले साल भी कोरोना महामारी के दौरान अर्थव्यवस्था में गिरावट दर्ज की गई थी। वित्तीय वर्ष 2019-20 में भारत की जीडीपी ग्रोथ जीडीपी की ग्रोथ 4 फीसदी दर्ज की गई थी।

वहीं दूसरी तरफ तीसरी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ लौट आई थी। ऐसे में दिसंबर तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 0.5 फीसदी थी। अगर इससे पहले वित्त वर्ष की पहली तिमाही के जीडीपी की बात करें, तो जीडीपी में करीब 24 फीसदी और दूसरी तिमाही में 7.5 फ़ीसदी की गिरावट देखी गई थी।

जीडीपी पर कोरोना की दूसरी लहर की मार

जानकारों की मानें तो चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारत की जीडीपी पर कोरोना की दूसरी लहर का असर साफ तौर पर देखा गया है। पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ के अनुमान को हटा दिया गया है। फिलहाल, अनुमान था कि ग्रोथ के रास्ते पर लौट रही अर्थव्यवस्था को कोरोना ने पटरी से उतर दिया। जीडीपी का सिर्फ अप्रैल-जून तिमाही पर असर पड़ने की संभावना थी। लेकिन इसी दौरान जीडीपी में गिरावट दर्ज की गई।

इसके अलावा, कृषि, वानिकी और मछली पकड़ने के क्षेत्र में चौथी तिमाही में 3.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई। सभी चार तिमाहियों में वृद्धि दर्ज करने वाला कृषि एकमात्र क्षेत्र रहा है। विज्ञापन अन्य उद्योगों में, व्यापार, होटल, परिवहन, संचार और प्रसारण से संबंधित सेवाओं में चौथी तिमाही में 2.3 प्रतिशत की गिरावट देखी गई, जो तीसरी तिमाही में 7.9 प्रतिशत के संकुचन से बेहतर है।

ताजा आंकड़ों के मुताबिक, अक्टूबर-दिसंबर तिमाही (Q3) में जीडीपी में 0.5 फीसदी की बढ़ोतरी हुई, जबकि पिछले अनुमान 0.4 फीसदी का था। यह लगातार दो तिमाहियों में संकुचन के बाद आया है। जुलाई-सितंबर तिमाही (Q2) में जीडीपी में 7.4 प्रतिशत की गिरावट आई थी।

Next Story