Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कोरोना संकट आतंकी हमले से ज्यादा खतरनाक

कोरोना संकट आतंकी हमले से ज्यादा खतरनाककोरोना वायरस के फैलने की रफ्तार दुनिया की अर्थव्यवस्था के विकास दर को मंद कर रही है। कोरोना वायरस के चलते दुनिया को रोजाना अरबों रुपए का नुकसान हो रहा है।

कोरोना संकट आतंकी हमले से ज्यादा खतरनाककोरोना वायरस (प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली। कोरोना संकट आतंकी हमले से ज्यादा खतरनाककोरोना वायरस के फैलने की रफ्तार दुनिया की अर्थव्यवस्था के विकास दर को मंद कर रही है। कोरोना वायरस के चलते दुनिया को रोजाना अरबों रुपए का नुकसान हो रहा है। वहीं अभी तक कोरोना का मुकम्मल इजाल नहीं ढ़ूंढा जा सका है। इसके चलते भारत समेत ज्यादातर देश के बाजार में जोरदार गिरावट देखी जा रही है। आर्गेनाइजेशन फॉर इकोनॉमिक को-ऑपरेशन एंड डेवल्पमेंट (ओईसीडी) की रिपोर्ट की मानें, तो दुनिया कोरोना वायरस के असर से जल्द नही निकल सकेगी। अर्थव्यवस्था पर इसका असर लंबे वक्त रहेगा। वैश्विक स्तर पर अर्थव्यवस्था को कोरोना वायरस के असर से उबरने में कई साल लग जाएंगे। कोरोना वायरस का संकट 11 सितंबर 2008 को हुए आतंकी हमले से पैदा हुए वित्तीय संकट से कहीं ज्यादा खतरनाक है।

उन्होंने कहा कि इस संकट से छोटे और मझोले वर्ग का कारोबार बंद हो सकता है। ऐसे में सरकारों को वर्कर और व्यापारी समूह के लिए राहत पैकेज का ऐलान करना चाहिए। कोरोना वायरस संकट से कर्ज में डूबी अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर सकती है। जी 20 देशों की अर्थव्यवस्था वी शेप में आगे बढ़ेंगी। ओईसीडी ने कोरोना वायरस संकट से निपटने के लिए फ्री वायरस टेस्टिंग, डॉक्टरों और नर्स के लिए सही उपकरण, वर्कर के लिए कैश ट्रांसफर समेत बिजनेस और हॉलीडे के दौरान स्वरोजगार और टैक्स छूट में लाभ देने की अपील की है।

मंद रह सकती है विकास दर

वैश्विक विकास के 1.5% की दर से आगे बढ़ने का अनुमान जाहिर किया है। आईएमएफ के वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक की जनवरी की रिपोर्ट में वैश्विक अर्थव्यवस्था की विकास दर साल 2019 में 2.9 फीसदी रही, जबकि साल 2020 में वैश्विक अर्थव्यवस्था की विकास दर 3.3 रहने की संभावना जाहिर की गई थी। हालांकि कोरोना वायरस के चलते साल 2020 में अर्थव्यवस्था की रफ्तार आधी से ज्यादा कम हो सकती है। अगर ऐसा रहता है, तो भारत भी इससे अछूता नहीं रहेगा। रिपोर्ट में भारत की आर्थिक विकास दर अनुमान को जनवरी में 6.1 फीसदी से घटाकर 4.8 फीसदी कर दी गई थी, जो कोरोना वायरस के चलते पहले की अनुमानित विकास दर से भी नीचे जा सकती है।

कोरोना से बढ़ेगी बेरोजगारी

कोरोना वायरस के चलते वैश्विक स्तर पर नौकरियों में छंटनी हो सकती है। गातार अगली दो तिमाही में अर्थव्यवस्था में गिरावट दर्ज की जा सकती है।

Next Story
Top