Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सचिन पायलट को मुख्यमंत्री नहीं बनाएगी कांग्रेस, अब प्रदेश अध्यक्ष का पद भी छोड़ना होगा

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ बैठक की है। जिसमें उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट की शर्तों के सामने नहीं झुकने का फैसला किया है।

ज्योतिरादित्य सिंधिया पर सचिन पायलट ने तोड़ी चुप्पी, मामला न सुलझा पाने पर पार्टी नेतृत्व की बतायी हार
X
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट (फाइल)

राजस्थान मसले पर रविवार को देर शाम कांग्रेस के चुनिंदा नेताओं की बैठक कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ हुई। आंकड़ों के गुणा-गणित में साफ है कर दिया गया कि राजस्थान में पार्टी के अंदर और बाहर से लगातार दबाव तो है, मगर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में राज्य की सरकार को कोई खतरा नहीं है।

राहुल गांधी, अहमद पटेल, केसी वेणुगोपाल और राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडेय ने मिलकर फार्मूला सेट किया। सोनिया गांधी ने अपनी रजामंदी दी। सूत्रों ने बताया कि ये साफ कर दिया कि सचिन पायलट के दबाव में कोई निर्णय नहीं किया जाएगा। सचिन पायलट अभी राजस्थान के उप-मुख्यमंत्री हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष हैं। एआईसीसी चाहती है अब वे प्रदेश अध्यक्ष पद छोड़ें ताकि किसी दूसरे वरिष्ठ नेता को एडजस्ट किया जा सके। वे पीसीसी चीफ बने रहना चाहते हैं। पार्टी का एक वर्ग उन्हें मुख्यमंत्री बनाए जाने की वकालत कर रहा है।

कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि गुर्जर बिरादरी के सचिन को पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व दबाव के बाद भी मुख्यमंत्री नहीं बनाएगा। बैठक में मौजूद एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि पायलट न कांग्रेस में मुख्यमंत्री बन सकते हैं, न ही भाजपा उन्हें मुख्यमंत्री बनाएगी। देर शाम पायलट के साथ दिल्ली आए सभी विधायकों ने भी एकसुर में बोले कि सभी कांग्रेस के साथ हैं। पायलट ने शाम को अपने पुराने मित्र ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात कर आलाकमान और दबाव बनाने की कोशिश की, मगर उसका कोई असर नेतृत्व पर पड़ता दिखाई नहीं दिया।

Next Story
Top