Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कांग्रेस ने यूपी, एमपी और गुजरात के मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांगा की, जानें क्या है पूरा मामला

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि 170000 मौत- अकेले मई माह में- सिर्फ़ म.प्र में! जो न सोचा, न सुना, वो सत्य सामने है।

कांग्रेस ने यूपी, एमपी और गुजरात के मुख्यमंत्री के इस्तीफे की मांगा की, जानें क्या है पूरा मामला
X

कांग्रेस ने शनिवार को उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात के मुख्यमंत्री के इस्तीफा की मांग की है। कांग्रेस की तरफ से तीनों राज्यों की सरकारों पर कोविड-19 के आंकड़े छुपाने का आरोप लगाया गया है। साथ ही कहा है कि इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों योगी आदित्यनाथ, विजय रुपाणी और शिवराज सिंह चौहान को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे देना चाहिए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया है कि भारत में कोरोना वायरस से हुई मौतों का सही आंकड़ा पता करने और आंकड़े छिपाने वालों की जवाबदेही तय करने के लिए न्यायिक जांच कराई जाए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से मौत के आंकड़ों से संबंधित एक न्यूज़ का हवाला देते हुए कहा कि पीएम मोदी और सीएम शिवराज सिंह चौहान को इस पर जवाब देना चाहिए। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट करते हुए लिखा कि 170000 मौत- अकेले मई माह में- सिर्फ़ म.प्र में! जो न सोचा, न सुना, वो सत्य सामने है। मध्यप्रदेश में अकेले मई माह में छह महीने के बराबर मौतें हो गईं। इंसान की जान सबसे सस्ती कैसे हो गई?क्यों आत्मा मर गई? कैसे शासन पर बैठे हैं 'शिवराज'? PM-CM सामने आएँ, बताएँ, कौन जुम्मेवार?

वही पवन खेड़ा ने भी केंद्र की मोदी सरकार पर आंकड़े छुपाने का आरोप लगाया है। पवन खेड़ा ने कहा है कि एनडीए का मतलब ही 'नो डेटा अवेलेबल है। अर्थव्यवस्था, नौकरी और अब लोगों की जान जाने के आंकड़े भी छिपाए जा रहे हैं, जोकि बहुत ही ज्यादा दुखद है। आगे कहा कि, मई महीने में अकेले मध्य प्रदेश में 1.7 लाख लोगों की जान गई है, जबकि सरकारी आंकड़े में सिर्फ 2 हजार 451 लोगों की मौत कोरोना वायरस से होने की बात की गई है। सच्चाई यह है आंकड़ा छिपाया गया है। गुजरात और उत्तर प्रदेश में भी आंकड़े छिपाए गए हैं। इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों को नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देना चाहिए।

Next Story