Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पुलवामा हमले को लेकर बड़ा खुलासा, यहां से मंगवाया गया था विस्फोटक बनाने के लिए केमिकल

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलवामा आतंकी हमले के संबंध में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अबतक पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। एनआईए ने हमले के संबंध में वाइज उल इस्लाम और मोहम्मद अब्बास राथेड़ को भी गिरफ्तार किया है।

पुलवामा हमले को लेकर बड़ा खुलासा, यहां से मंगवाया गया था विस्फोटक बनाने के लिए केमिकलपुलवामा हमले को लेकर बड़ा खुलासा

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में बीते वर्ष 14 फरवरी को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। यह भी जानकारी मिली है कि आतंकी इस हमले के फरवरी के पहले हफ्ते में अंजान देने वाले थे लेकिन खराब मौसम की चलते इस योजना को टाल दिया गया था। 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में 40 सीआरपीएफ के जवानों की शहादत हो गई थी।

कहां से मंगाया गया था विस्फोटक बनाने का केमिकल!

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पुलवामा आतंकी हमले के संबंध में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने अबतक पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। एनआईए ने हमले के संबंध में वाइज उल इस्लाम और मोहम्मद अब्बास राथेड़ को भी गिरफ्तार किया है। वाइज उल इस्लाम श्रीनगर और अब्बास पुलवामा के ही हाकरीपोरा का रहने वाला है। एनआईए के प्रवक्ता ने बताया कि आरोपियों से पूछताछ में बड़ा खुलासा हुआ है।

एनआईए के प्रवक्ता ने बताया की वाइज उल इस्लाम ने पूछताछ में कबूला है कि उसने अमेजन से केमिकल ऑर्डर किया था। इसी केमिकल से आईईडी बनाया गया। इसके अलावा अमेजन से ही बैटरी और अन्य सामान भी मंगाए। इन समानों को मंगवाने का आदेश पाकिस्तान के जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों ने दिया था। सामान मंगवाने के बाद वाइज उल इस्लाम ने खुद को जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों के हवाले कर दिया था।

अब्बास जैश के लिए कर रहा था काम

वहीं गिरफ्तार किया गया अब्बास लंबे समय से आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के लिए काम कर रहा था। अब्बास ने जैश के आतंकी आदिल अहमद डार (आत्मघाती हमलावर), समीर अहमद डार, कामरान और आईईडी एक्सपर्ट मोहम्मद उमर अपने घर में शरण दी थी।

40 जवान हुए थे शहीद

गौरतलब है कि साल 2019 में 14 फरवरी को पुलवामा के लेथपोरा में सीआरपीएफ के काफिले पर आतंकी हमला हुआ था। हमलावर ने विस्फोटक से भरी गाड़ी से सीआरपीएफ की बस को टक्कर मारी थी। जिसमें सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे।

अमेजन इंडिया के प्रवक्ता ने दिया ये बयान

इस मामले की जानकारी सामने आने के बाद अमेजन इंडिया के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी देश के नियम और कानूनों के तहत ही काम करती है। कंपनी जिससे डील करती है, सुरक्षा मानकों के तहत उनके नामों की लिस्ट हमारे पास होती है। केमिकल मंगवाये जाने की जानकारी नहीं है। यदि कोई अधिकारी या एजेंसी हमें बुलाती है तो हम जांच में सहयोग करेंगे।

Next Story
Top