Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Budget 2021: जानें वित्त मंत्रालय की कौन सी टीम तैयार करती है आम लोगों के लिए खास बजट

Budget 2021: आपको बता दें कि पहले देश का आम बजट फरवरी के आखिरी दिन पेश होता था। लेकिन मोदी सरकार ने इसे पहली फरवरी को पेश करने की परंपरा शुरू की।

Budget 2021: जानें वित्त मंत्रालय की कौन सी टीम तैयार करती है आम लोगों के लिए खास बजट
X

वित्त मंत्रालय

Budget 2021: वित्त वर्ष 2021-22 का मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का तीसरा बजट 1 फरवरी को केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा पेश किया जाएगा। कोरोना महामारी में देशभर के सेक्टरों की निगाहें इस बजट पर होगी। वहीं देश की अर्थव्यवस्था के लिए ये बजट बेहद जरूरी होगा। क्योंकि कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह चौपट हो गई है। भारत माइस 7 की ग्रोथ रेट से आगे बढ़ रही है। हर साल आम बजट छपने की प्रक्रिया शुरू होने से पहले वित्त मंत्रालय हलवा कार्यक्रम में हिस्सा लेता है।

आपको बता दें कि पहले देश का आम बजट फरवरी के आखिरी दिन पेश होता था। लेकिन मोदी सरकार ने इसे पहली फरवरी को पेश करने की परंपरा शुरू की। उधर, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने विभिन्न क्षेत्रों की अधिकारियों के साथ बजट से पहले ही बातचीत कर चुकी हैं और अब वह एक फरवरी को लोकसभा में सुबह 11 बजे बजट पेश करेंगी। वहीं भारत सरकार का राजकोषीय घाटा भी 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक हो चुका है।

बजट पेश करने से पहले हलवा खाने का कार्यक्रम

हर वर्ष बजट पेश करने से पहले हलवा कार्यक्रम को आयोजित किया जाता है। जिसमें वित्त मंत्रालय का हर सदस्य हिस्सा लेता है। उस हलवा को वित्त मंत्रालय के कर्मचारियों और अधिकारियों के बीच बांटा जाता है। हलवा कार्यक्रम के तुरंत बाद, बजट प्रक्रिया मे शामिल होने वाले वित्त मंत्रालय के कर्मचारियों और अधिकारियों का अपने परिवार और दुनिया से सीमित समय के लिए संपर्क तोड़ दिया जाता है। उन सबको लोकसभा में बजट पेश होने तक नॉर्थ ब्लॉक रखा जाता है।

बजट तैयार करने में कई अधिकारियों की है भागीदारी

वित्त सचिव ए बी पांडे, आर्थिक मामलों के सचिव तरुण बजाज, निवेश एवं लोक परिसंपत्ति विभाग के सचिव तुहिन कांत पांडे, वित्त सेवा सचिव देवाशीष पांडा, व्यय सचिव टी वी सोमनाथन और मुख्य आर्थिक सलाहकार कृष्णमूर्ति सुब्रहमण्यम एवं मंत्रालय के अन्य कर्मचारी वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की देश का बजट बनाने में मदद करेंगे।

जानिये क्या होता है आर्थिक सर्वेक्षण

देश का बजट मुख्य आर्थिक सलाहकार की देखरेख में इसे तैयार किया जाता है। आर्थिक सर्वेक्षण, वित्त मंत्रालय का मुख्य वार्षिक दस्तावेज होता है। मंत्रालय के तहत काम करने वाला आर्थिक मामलों का विभाग हर साल बजट पेश होने से पहले संसद में आर्थिक सर्वेक्षण को पटल पर रखता है। आर्थिक सर्वेक्षण, असल में बीते वित्त वर्ष का देश का हिसाब-किताब होता है। यह पिछले 12 महीनों में देश के आर्थिक प्रदर्शन का ब्यौरा होता है। ऐसा पहली बार होगा कि जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण से बजट सत्र की शुरुआत होगी तब देश के सांसद तीन अलग-अलग जगहों पर बैठेंगे। वे सभी राज्यसभा, लोकसभा और संसद के केंद्रीय कक्ष में बैठेंगे।

Next Story